घर मे हुई मृत्यु, टोल प्लाजा बंद होने पर राहगीर महिला ने लगाई किसानों को फटकार

गाजियाबाद के डासना टोल पर किसानों ने काली पट्टी पहनकर विरोध प्रदर्शन किया। (Photo : IANS)

किसानों ने कुंडली की ओर जाने वाले डासना टोल पर अपना विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया जिससे महिला के घर किसी व्यक्ति की मृत्यु हो जाने के कारण उसे जाने में समस्या हुई

गाजियाबाद, 6 मार्च (आईएएनएस)| किसानों के विरोध प्रदर्शन के 100 दिन पूरे होने पर किसानों ने केएमपी एक्सप्रेसवे पर 5 घंटे की नाकाबंदी करने का आह्वान किया है। ऐसे में डासना टोल पर एक राहगीर महिला ने किसानों की फटकार लगाई। दरअसल किसानों ने कुंडली की ओर जाने वाले डासना टोल पर अपना विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया है। ऐसे में महिला के घर किसी व्यक्ति की मृत्यु हो जाने के कारण उसे जाने में समस्या हुई। महिला और उसके पति ने प्रशासन से जाने की गुजारिश भी की।
बेबस महिला रोने लगी
कई देर तक खड़े होने के बाद जब महिला नहीं जा सकी तो वह रोने लगी, उसके बाद महिला का गुस्सा किसानों पर फुट पड़ा, एक तरफ महिला ने किसानों को जमकर कोसा तो वहीं उनको फटकार भी लगाई। इतना सुनते ही स्थानीय प्रशासन के लोग महिला के पास आए और उन्हें डासना टोल से जाने की इजाजत दी।

[(File Photo: IANS)]
100 दिन पूरे होने पर किसानों ने काली पट्टी बांध टोल प्लाजा पर शुरू किया प्रदर्शन
बता दें कि दिल्ली की सीमाओं पर किसानों के विरोध प्रदर्शन शुरू होने के 100 दिन हो चुके हैं। शनिवार को दिल्ली व दिल्ली की सीमाओं के विभिन्न विरोध स्थलों को जोड़ने वाले केएमपी एक्सप्रेसवे पर 5 घंटे की नाकाबंदी करने का किसानों ने आह्वान किया है। जिसके तहत कुंडली की ओर जाने वाले डासना टोल पर किसानों ने अपना विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया है। हालांकि किसानों के आने से पहले पुलिस की तरफ से इस टोल को एहतियातन बंद किया गया था। वहीं दूसरी ओर राहगीरों को किसी तरह की कोई समस्या न हो इसके लिए पुलिस ने रूट को डायवर्ट कर दिया है।
इसके तहत राहगीर मसूरी थाने से आगे गंगानहर के किनारे होते हुए मुरादनगर बागपत शामली जा सकते है। यदि मेरठ जाना है तो हापुड़ होते हुए जा सकते है।
गाजियाबाद एसपी ट्रैफिक रामनन्द कुशवाहा ने आईएएनएस को बताया, "कंट्रोल रूम से सूचना मिली कि कुंडली की तरफ किसानों ने बंद किया है, जिसके तहत हमने कुंडली की ओर जाने वाले रास्ते को डासना टोल से ही बंद किया है ताकि आगे राहगीर न फसें।"
गाजीपुर बॉर्डर से कुछ किसान टोल पहुंचे है, वहीं सरकार के खिलाफ अपना विरोध दर्ज करा रहे हैं। किसानों के मुताबिक यह पूरी तरह से शांतिपूर्ण है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें