वड़ोदरा : नौ बच्चों के एक साथ गुमशुदा होने से मचा हडकंप, जानिए क्या था पूरा मामला

प्रतिकात्मक तस्वीर

एक रिक्शा चालक के साथ साथ गये बच्चें अपने आप वापस लौटे

शहर में अपराधिक वारदातों की संख्या दिन-बा-दिन बढती जा रही है। आये दिन किसी न किसी अपराध की कहानी सुनने को मिल ही जाती है। ऐसे में शहर में सनसनी तब मच गई जब वडोदरा शहर के अकोटा गाय सर्कल के पास खिलौने और गुब्बारे बेचकर गुजारा कर रहे खानाबादोस परिवारों के 9 बच्चों का एक ऑटोरिक्शा में अपहरण कर लिया गया। पुलिस को जैसे ही घटना की जानकारी मिली वैसे ही पुलिस ने पूरे शहर की घेराबंदी कर जांच शुरू कर दी है। बच्चों को अगवा किए जाने के बाद परिजनों में दुःख का माहौल था। हालांकि, इससे पहले कि पुलिस बच्चों को ढूंढ पाती, बच्चे खुद ही वासना रोड चार रस्ते से चलकर गाय सर्किल के पास अपने परिवारों के पास पहुंचे। इसके बाद परिवार वालों के जान में जान आई।
जानकरी के अनुसार दोपहर के समय एक ऑटो रिक्शा चालक फुटपाथ पर खेल रहे कलाबाज परिवार के 8 से 9 बच्चों को अपने ऑटो रिक्शा में बिठाकर कही चला गया। जैसे ही कलाबाज परिवारों को इसकी सूचना दी गई, उन्होंने पुलिस नियंत्रण को सूचना दी और पुलिस मौके पर पहुंच गई। इसके साथ ही एसीपी राजगोर समेत अधिकारियों और पुलिस का काफिला मौके पर पहुंचा। इसके बाद पुलिस ने अकोटा गाय सर्कल के पास से बच्चों के तथाकथित अपहरण की सीसीटीवी फुटेज को खंगालना शुरू कर दिया है।
घटना स्थल पर पहुंचे एसीपी राजगोर ने कहा कि सीसीटीवी फुटेज देखने से ऐसा नहीं लगता कि बच्चों का अपहरण किया गया है। बच्चे खुद ऑटो रिक्शा में बैठे हैं। परिजनों से पूछताछ में यह भी पता चला कि पुलिस बच्चों को ऑटो रिक्शा में बैठाकर ले जा रहा रिक्शा चालक वासना रोड पर लगे सीसीटीवी में कैद हो गया। फुटेज के आधार पर तलाशी अभियान चलाया जा रहा है। ऑटो रिक्शा जब्त होने के बाद बच्चों के तथाकथित अपहरण पर से पर्दा उठ जाएगा।
अपहरणकर्ता रिक्शा चालक के चंगुल से छूटे बच्चों ने गाय सर्कल के पास परिवार से संपर्क किया। बच्चों ने बताया, "रिक्शाचालक हमें खाना खिलाने के बहाने ले गया। फिर हमें बिना कुछ खिलाएं ही वासना चौराहे पर छोड़ दिया। हम वासना रोड से पैदल ही आए थे।” ऑटो रिक्शा चालक 9 बच्चों को ले गया। सभी बच्चों की उम्र 15 साल से कम थी। जिसमें तीन लड़कियां भी थीं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें