म्युकर मायकोसिस से लड़ने की सूरत की ये है तैयारी, लक्षण जान लें और ये एतिहात बरतें

कोविड अस्पताल सूरत सिविल

सूरत सहित गुजरात में कोरोना संक्रमण के दौरान एक नई बीमारी म्यूकोरमाइकोसिस के मरीज देखने के कारण नई समस्या खड़ी हो गई है। इस रोग के मरीजों को उपचार देने के लिए सिविल में अलग से वॉर्ड और ऑपरेशन थिएटर बनाया गया है। साथ ही डॉक्टरों की एक टीम भी बना दी गई है। फिलहाल सिविल में 2 महिला और 3 पुरुष सहित पांच मरीजों को दाखिल किया गया है। इस बीमारी के कारण जिन लोगों को शुगर, डायबिटीज हो उनके लिए मुसीबत बढ़ सकती है। सूरत में भी ऐसे मरीजों की संख्या बढ़ रही है। हालांकि अभी तक 5 मरीज ही दर्ज किए गए हैं। 
सिविल में अलग से मेडिकल टीम बनाई गई
सिविल सुपरिटेंडेंट डॉ रागिनी बेन वर्मा ने बताया कि म्यूकोमाइसिस के मरीजों को उपचार देने के लिए 2 दिन पहले ई एन टी आंख तथा मेडिसिन डिपार्टमेंट के डॉक्टरों की मीटिंग हुई थी। जिसमें की इस रोग के मरीजों के लिए अलग से वोर्ड बनाने का तय किया गया है। वॉर्ड में 35 से 40 बेड की व्यवस्था है। इनके लिए अलग से ऑपरेशन थिएटर भी बनाया गया है। इसके अलावा ओक्युप्लास्टिक सर्जरी के डॉक्टरों की भी नियुक्ति की गई है।ऐसे मरीजों के उपचार के लिए मेडिसिन एनेस्थेसिया न्यूरो सर्जन सहित अन्य डॉक्टरों की टीम तैयार की गई है। बताया जा रहा है कि इस प्रकार के रोग में मरीज का नाक बंद हो जाता है। नाक के आसपास सूजन आ जाती है चेहरे पर सूजन और कभी-कभी बुखार आता है। जिन्हे पहले से बिमारी हो उन्हें इसका इंफेक्शन तेजी से लग सकता है। इस रोग से बचने के लिए साफ-सफाई जरूरी है। साथ ही धूल आदि के संपर्क से बचना चाहिए। लोगों कुछ समय के अंतराल के बाद हाथ-पाव धोते रहना चाहिए।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें