बुजुर्ग महिला चारा बिनने गई थी तभी जंगली सूअरों ने हमला कर दिया

प्रतिकात्मक तस्वीर (Photo Credit : Pixabay.com)

खेरगाम के पटेल फलिया की 65 वर्षीय विजया अमृत नायक की हुई मौत, स्थानीय लोगों ने रशासन पर लगाया लापरवाही का आरोप

नवसारी जिले के पूर्वी क्षेत्र के किसान जंगली सूअर के कारण फसलों को भारी नुकसान की शिकायत करते रहे हैं। लेकिन अब जंगली सूअर का उत्पीड़न इस हद तक बढ़ गया है कि इससे लोगों को जान-माल का नुकसान भी हो रहा है। नवसारी तालुका के खेरगाम में, एक अधेड़ उम्र की महिला जो मंगलवार शाम एक वाडी में चारा लेने गई थी, उस पर जंगली सूअरों के झुंड ने हमला कर गंभीर रूप से घायल कर दिया और फिर उसी महिला के आंगन में बैठ गये।
जानकारी के अनुसार खेरगाम के पटेल फलिया की 65 वर्षीय विजया अमृत नायक के परिवार में दो बेटे हैं, जिनमें से एक उनका बेटा महेश है और मां चारा काटने के लिए अलग-अलग खेतों में गई हैं। जहां उसका बेटा महेश खेत से चारा लेकर घर आया और माँ के ना मिलने पर मां की तलाश की। करीब आठ बजे मां का शव वाडी में मिला। वे तुरंत मां को गणदेवी स्वास्थ्य केंद्र ले गए। जहां डॉक्टरों ने महिला को मृत घोषित कर दिया। पूरे मामले की सूचना वन विभाग को भी दी गई।
स्थानीय लोगों द्वारा बहुत समय से की जा रही एक शिकायत के अनुसार जंगली सुअर कई वर्षों से कृषि उपज को नुकसान पहुंचा रहे हैं लेकिन अब इनके कारण एक महिला की जान चली गई है। वन विभाग ने इस मामले पर कोई विशेष ध्यान नहीं दिया। वहीं किसानों को सुअरों के उत्पीड़न से बचाने के लिए कृषि विभाग और वन विभाग द्वारा संयुक्त रूप से काम किया जा रहा है।
गौरतलब है कि किसानों के लिए ये समस्या दिन-बा-दिन मुश्किल होती जा रही है। सूअर अक्सर झुंड में आकर उनके फसलों को नुकसान पहुंचा रहते हैं। किसानों और स्थानीय लोगों द्वारा सूअरों पर नियंत्रण के लिए व्यवस्था की ओर से जल्द प्रयास की मांग भी की जा रही है, लेकिन अभी तक कोई ठोस कार्रवाई नहीं की जा सकी है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें