सूरत : महिला पीएसआई और हेड कांस्टेबल हर रविवार को अनाथालय के बच्चों को विभिन्न एक्टीविटी शिखाती है

बच्चीओं को राखी बनानी शिखाती पुलिसकर्मी बहने

लड़कियों को राखी बनाना सिखाया , 500 तैयार राखी का होगा प्रदर्शन इसकी आय का उपयोग लड़कियों के लिए किया जाएगा

पीएसआई शीतल डी. चौधरी और उनकी बहन कामिनीबेन डी. चौधरी अनाथाश्रम की बच्चीओं की मदद कर रही है
गोडादरा पुलिस स्टेशन की पीएसआई शीतल चौधरी, जो कभी पुणा क्षेत्र में महिलाओं, विधवाओं और बेटियों को आय अर्जित करने के लिए विभिन्न प्रकार के आभूषण बनाना सिखाती थीं। हर रविवार को सलाबतपुरा के एक अनाथालय में गतिविधि का संचालन करती हैं। उनके मार्गदर्शन में यहां की छात्राओं ने करीब 500 राखियां बनाई हैं। जिसकी बिक्री से होने वाली आय का उपयोग भी लड़कियों के लिए ही किया जाएगा।
हर बच्चे में प्रतिभा होती है और समय रहते माता-पिता उसे बाहर लाने की कोशिश करते हैं ताकि बच्चे का भविष्य बेहतर हो सके। जब माता-पिता के बिना बच्चों की बात आती है तो,  या तो उनकी देखभाल करने वाली संस्था या सामाजिक कार्यकर्ता उनके लिए प्रयास करते हैं। लेकिन शहर के गोडादरा थाने के एक पुलिस सब-इंस्पेक्टर और पुणा पुलिस स्टेशन के एक हेड कांस्टेबल हर रविवार को सलाबतपुरा इलाके के ढिंका चिका चार्ली हाउस (अनाथालय) में लड़कियों के लिए गतिविधियों का आयोजन करके अपनी प्रतिभा दिखाने की कोशिश कर रहे हैं। पीएसआई शीतल डी. चौधरी और उनकी बहन कामिनीबेन डी. चौधरी उन्हें वर्तमान स्थिति के साथ-साथ भविष्य के लिए तैयार करने के लिए विभिन्न शिल्पों में प्रशिक्षण दे रहे हैं। इस अनाथालय में 5 साल से 18 साल तक की लड़कियां हैं। जिसमें लड़कियों को राखी बनाना सिखाया जाता है।
इस बारे में पीएसआई शीतल चौधरी ने कहा कि जब मेरी पोस्टिंग सलाबतपुरा में थी तो 498 (के) लड़ाई की शिकायतें थीं। इसलिए मैंने और मेरी बहन ने रुस्तमपुरा इलाके में विधवाओं, लड़कियों और अन्य महिलाओं को आभूषण बनाना सिखाने का फैसला किया। उन्होंने उन्हें कपड़े और नकली आभूषण हार, कंगन जैसी चीजें सिखाकर आर्थिक रूप से समर्थन देने की कोशिश की। आज भी ये काम करते हैं। हालाँकि, हम मार्च 2021 में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर अनाथालय गए थे। वहां मैंने सोचा कि इन लड़कियों के लिए कुछ करना चाहिए। इसलिए हमने उन्हें हर रविवार को एक अलग गतिविधि करने का फैसला किया। 5 से 14 साल की लड़कियों को अलग-अलग शिल्प सिखाया गया है जबकि 15 से 18 साल की 10-12 लड़कियों को राखी बनाना सिखाया गया है। खास बात यह है कि बेसिक्स सीखने के बाद उन्होंने अपने आइडिया से जो राखियां बनाई हैं, वे लेटेस्ट फैशन के अनुरूप हैं और बेहद खूबसूरत हैं। उन्होंने 500 से ज्यादा राखियां बनाई हैं। जिसकी एक प्रदर्शनी भी 7 अगस्त को लगाई गई है। इससे जो भी राशि आएगी वह लड़कियों के खाते में जमा करा दी जाएगी।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें