सूरत : ओलपाड के वेलुक गांव में पांच सालों से बिजली सब स्टेशन के उद्घाटन का इंतजार

ओलपाड के वेलुक गांव में सब स्टेशन के उद्घाटन का इंतजार

सूरत में ओलपाड के वेलुक गांव में 66 केवी बिजली ‌सब स्टेशन स्थापित किया मगर सरकारी व्यवस्था में तालमेल नहीं होने से उद्घाटन का मुर्हुत नहीं निकल रहा ।

१2 करोड़ रुपये की लागत से बने सब स्टेशन का उद्घाटन बाधित होने से स्थानिय ग्राहक परेशान
सूरत जिले में ओलपाड तालुका के वेलुक गांव में पांच साल पहले गेल्को कंपनी द्वारा स्थानीय लोगों की बिजली आपूर्ति मांग को पूरा करने और ओलपाड सब स्टेशन पर लोड कम करने के लिए   66  केवी सब स्टेशन स्थापित किया मगर उद्घाटन नहीं हो पा रहा। सूरत कलेक्टर व लोक दरबार में भी प्रेजेंटेशन दिया गया, लेकिन सरकारी व्यवस्था में तालमेल नहीं होने से सब स्टेशन के उद्घाटन का मुर्हुत नहीं निकल रहा । 
करोड़ों रुपये का निवेश करने के बावजूद विकासशील सरकार में ऊर्जा विभाग और अन्य विभागों के बीच समन्वय की कमी के कारण इस सब स्टेशन को शुरू करने या उद्घाटन करने का ऊर्जा विभाग को समय नहीं मिला है। उद्घाटन  के अभाव के कारण इस क्षेत्र में बिजली की आपूर्ति चाहने वाले सैकड़ों उपभोक्ता बिजली कनेक्शन से वंचित रह गए हैं। इस संबंध में सहकारिता नेता एवं किसान नेता दर्शन नाईक ने मुख्यमंत्री व ऊर्जा विभाग के अधिकारियों को पत्र लिखकर सब स्टेशन शुरू करने की अपील की है।
इस संबंध में सायन शुगर फैक्ट्री के निदेशक और  किसान सहकारी नेता दर्शन नायक ने गुजरात के संवेदनशील मुख्यमंत्री विजय रूपाणी और ऊर्जा मंत्री सौरभ पटेल को पत्र लिखकर सब स्टेशन को तुरंत शुरू करने का अनुरोध किया है। वर्ष 2012 से ओलपाड तालुका के तटवर्ती क्षेत्र की दांडी, छीडी, पिंजरत ,आडमोर और लवाछा के साथ वेलुक गांव के किसानों को ओलपाड सब स्टेशन से बिजली की आपूर्ति की जा रही है। फीडरों की लंबाई बहुत अधिक होने तथा ओवरलोड को कम करने के लिए वेलुक गांव में एक नया सब स्टेशन स्थापित करने गेलकों कंपनी को 12 करोड के सूचित खर्च से काम सौंपा गया था। गेलको ने 2015 में एक साल में काम पूरा कर लिया। सबस्टेशन पांच साल से बनकर तैयार है लेकिन सरकारी विभागों में तालमेल नहीं होने के कारण चालू नहीं किया जा सका है। इस क्षेत्र के स्थानिय लोगों ने पूर्व में लोक दरबार के साथ सूरत कलेक्टर से भी पूछा था कि सबस्टेशन बनकर तैयार है फिर भी चालू क्यों नहीं किया गया मगर इसका अभी तक कोई समाधान नहीं हो सका। उल्लेखनीय है कि कुछ गिने-चुने लोगों की वजह से स्थानीय क्षेत्र के लोगों को परेशानी हो रही है। स्थानीय उपभोक्ता बिजली के नए कनेक्शन के लिए आवेदन दर्ज करने जाते हैं तभी अधिकारी ओवरलोड का बहाना देकर आवेदन का स्वीकार नहीं करते हैं और आवेदकों को लौटा देते है । सब स्टेशन पिछले पांच सालों से बनकर तैयार है तो गुजरात की संवेदनशील, विकासशील सरकार के उर्जा मंत्री तथा मुख्यमंत्री विजयभाई रुपाणी इस मामले को लेकर उर्जा विभाग के संबंधित अधिकार‌ियों को जल्द से जल्द सब स्टेशन चालु करने का आदेश दे ताकि स्थानिय लोगों को बिजली संबंधित ओवरलोड की परेशानी कम हो। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें