सूरत : गोंडल सडक़ हादसे में मृतक परिवार में तीन बालिका बची, 7-7 लाख की सहायता की जाएगी

(Photo Credit : sandesh)

तीनों बेटियों के लिए आर्थिक सहायता के लिए कठोदरा में हुई मीटिंग

गोंडल के पास नेशनल हाइवे बिलियाला गांव के पाटिया निकट एसेंट कार का टायर फटने से कार डिवाइडर लादकर रॉंग साइड में एसटी बस के साथ टकरायी थी। इस सडक़ हादसे में सूरत के छह लोगों की मौत हुई थी। हादसे के बाद दो परिवार में सिर्फ तीन लड़किया बची है। बांभरोलिया परिवार में दो और गडिया परिवार में एक बेटी।  इसके पीछे कमाने वाला कोई नहीं है, जिससे तीनों बेटियों की आर्थिक मदद के लिए कठोदरा में मीटिंग का आयोजन किया गया।
हादसे में कठोदरा निवासी और बगसरा के मूजियासर गांव के 38 वर्षीय अश्विन गोविंद गढिया, 38 वर्षीय पत्नी सोनलबेन, 12 वर्षीय पुत्र धर्मिल, 56 वर्षीय माता शारदाबेन, बहनोई प्रफुल बांभरोलिया, बहन भानूबेन की मौत हो गई थी। जबकि प्रफुलभाई की छह वर्षीय पुत्री जेनी को चोट आने से उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती किया गया। गढिया परिवार में चार और बांभरोलिया परिवार में दो सहित कुल छह की मौत होने से परिवार में मातम का माहौल है। बची तीनों बेटिया अनाथ हो गई है। बुधवार को मृतकों की अंतिम संस्कार खोलवड स्मशानगृह में किया गया।
दोनों परिवार में छह मौत के कारण हाल में सिर्फ तीन बेटिया बची है। प्रफुलभाई की दो बेटिया 17 वर्षीय बंसरी और 6 वर्षीय जेनी और अश्विन की एक बेटी दृष्टि बची है। तीनों बेटिया निराधार हुई है। उनके पास हाल आय का कोई जरिया नहीं है। जिससे कामरेज के पूर्व विधायक प्रफुल पानसूरिया, हितेश लाठिया, महेश भूवा, मनसुख कासोदरिया आदि युवाओं की टीम ने निराधार बेटियों की मदद करने की ठानी थी। तीनों बच्चियों के भविष्य के लिए फंड एकत्रित करने का फैसला किया। यह फंड बच्चियों के नाम से बैंक में एफडी की जाएगी जिससे उनकी शिक्षा और सामाजिक प्रसंग में फंड उपयोगी हो सके। 
पूर्व विधायक प्रफुलभाई ने बताया कि कठोदरा में गढपुर रोड पर जीवनधारा सोसायटी में गुरूवार रात को मीटिंग  का आयोजन किया गया। जिसमें सामाजिक अग्रणी और जागरूक नागरिकों ने फंड दिया। फंड बच्चियों को दिया जाएगा। सरकार ने मृतक प्रति व्यक्ति 4 लाख रूपये की सहायता की घोषणा की है। हमारा आयोजन तीनों बेटियों को सात-सात लाख रूपये देने का है। जिससे एक बेटी को 11 लाख मिलने से अगले दिनों में उन्हें किसी भी तकलीफ का सामना नहीं करना पड़ेगा।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें