सूरत : उत्तरी राज्यों में माल के पार्सलों की नहीं हो पा रही है बुकिंग, ट्रांसपोर्टरों ने बतायी ये वजह

दिसावर से ट्रक रिटर्न गुड्स लेकर नहीं आने के कारण हुई है किल्लत

सूरत से उत्तरी भारत के पंजाब, दिल्ली और उत्तर प्रदेश आदि राज्यों में सूरत से फिनिश्ड पार्सल भेजने में दिक्कतों का सामना करना पड़ा रहा है। कहा जा रहा है कि सूरत में जब मकादम अपने पार्सल लेकर ट्रांसपोर्टरों के यहां पहुंचते हैं तब ट्रकें न होने और गोदाम में जगह नहीं होने की बात कहकर पार्सल वापस भेजे जाने की शिकायतें मिल रही हैं। 
सूरत में ट्रांसपोर्टरों के पास अभी विगत महीनों की तुलना में कामकाज अच्छा है। सभी परिवहन गोदाम पार्सल से भरे पड़े हैं। पार्सल लगाने की भी जगह नहीं है। चूंकि गोदाम पूरी तरह से भरे हुए हैं, इसलिए ट्रांसपोर्टर नए पार्सल बुक करने में झिझक रहे हैं। 
टेक्सटाइल गुड्स ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष युवराज देशले के अनुुसार सूरत से रोजाना  400 से अधिक ट्रक टेक्सटाइल गुड्स लेकर उपनगरों के लिए रवाना हो रहे हैं। पंजाब, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, बिहार समेत विभिन्न राज्यों की मंडियों से औसतन 40 से 50 ट्रांसपोर्टर जुड़े हैं। बाहर से ट्रक रिटर्न गुड्स लेकर नहीं आ रहे हैं, इसके कारण ट्रकों की कमी है और समस्या पैदा हुई है।
ट्रक व्यवसाय में भी स्थिति हमेशा बदलती रहती है। जब सूरत में कारोबार में उछाल आता है, तो उपनगरों में मंदी होती है और उपनगरों में उछाल आने पर सूरत में पूरी तरह से मंदी आ जाती है। जरूरत पडऩे पर ट्रांसपोर्टरों को पर्याप्त ट्रक नहीं मिलते।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें