सूरत : अपने बूते 'आत्मनिर्भर' बनीं नडदखादी गांव की 'रिद्धि सिद्धि सखी मंडल' को मिला स्वयंसेवी संस्थाओं का साथ

डांग जिले के नडगखादी गांव 'सखी मंडल की बहने बनीं आत्मनिर्भर

गायकवाड़ परिवार ने मंडल के आउटलेट और बेकरी यूनिट के लिए जगह देने से मंडल का कारोबार बढ़ा

रिद्धि सिद्धि सखी मंडल की ग्रामीण महिलाएं आत्मविश्वास से बोल रही हैं 'हम भी किसी से कम नहीं'
'वोकल फॉर लोकल' के प्रधान मंत्री  नरेंद्रभाई मोदी के आह्वान के अनुसार, सख्त परिश्रम एवं मेहनत के बल पर समृद्ध हुए डांग जिले के नडगखादी गांव का 'सखी मंडल' की यहां चर्चा की जानी है।
पौष्टिक अनाज और जैविक उत्पादों के मूल्य वर्धित उत्पादों को बेचने वाले रिद्धि सिद्धि सखी मंडल ने ग्रामीण महिलाओं के जुनून, कड़ी मेहनत और कौशल को बढ़ावा देने के प्रयास से आज समृद्धा हुआ यह सखी मंडल की बहनों को अपने दैनिक गृहकार्य के साथ घर बैठे रोजगार मिल रहा है।
मंडल की मंत्री श्रीमती कल्पना गायकवाड़ ने कहा, "डांग के लोग, जो ज्यादातर कृषि और पशुपालन से जुड़े हैं। यदि वे नौकरी करना चाहते हैं तो उन्हें अपने घरों, परिवारों और गांवों को छोड़कर डांग से बाहर जाना पड़ता है।  जो यहां की सभी बहनों के लिए संभव नहीं है। तब सरकार ने महिलाओं को सशक्त बनाने के लिए सखी मंडल बनाकर बहुत ही उम्दा कार्य किया है।
'आज शिक्षित हों या अर्द्धशिक्षित, अशिक्षित महिलाएं भी स्वाभिमानी हैं और उन्हें घर बैठे रोजगार मिल रहा है। उन्होंने गर्व से कहा हम सब  सखी मंडलियों के प्रति आभारी है।  
जिला ग्रामीण विकास एजेंसी की 'मिशन मंगलम योजना' के तहत वर्ष 2009 में गठित इस सखी मंडल को शुरू से ही ₹5,000 का रिवाल्विंग फंड मिला। जिससे छोटे पैमाने पर नागली पापड़ से लेकर इसकी बिक्री तक की व्यवस्था शुरु कर इस मण्डली ने आंतरिक उधार और बचत की गतिविधि भी शुरू की।
प्रारंभिक चरण में, मण्डली की बहनों द्वारा उत्पादित उत्पादों को 'ग्रामीण मेला' में ले जाया जाता था और नागरिकों को शुद्ध और सात्विक वस्तुएं प्रदान की जाती थीं, जिनका व्यवसायीकरण किया गया। 'आगा खान' और 'यूपीएल' जैसे संगठनों के सहयोग से मंडल को नई ऊंचाइयां मिलीं।
कल्पना गायकवाड़ ने कहा कि इस सखी मंडल को 'आगा खां' संस्था द्वारा 7 लाख रुपये की अनुमानित लागत से बेकरी इकाई उपकरण आवंटित किया गया था। जबिक यूपीएल ने मंडल को भवन और जनरेटर की सुविधा के लिए 6 लाख रुपये दिए। इसके अलावा, जिला ग्रामीण विकास एजेंसी ने ग्रामीण एक्सप्रेसवे योजना के तहत मंडल की प्रवृत्तियों में जरुरी इको वान खरीदने के लिए दो लाख रुपये की सहायता प्रदान की थी। जिससे इस समूह की 11 ग्रामीण महिलाओं ने बड़े पैमाने पर बेकरी उत्पाद शुरू किए हैं।  जो हमारे लिए गर्व की बात है। समूह की 11 महिलाओं में ग्रामीण महिलाएं हैं जो कक्षा 3 से कक्षा 12 तक पढ़ाई की  रही हैं। सीमित पढ़ाई के बावजूद आज वह घर बैठे रोजगार पाने के अलावा दूसरों को रोजगार भी मुहैया करा रही हैं।
ग्रामीण महिलाओं की कड़ी मेहनत और समर्पण को देखकर नडगखादी के गायकवाड़ परिवार ने समूह की बहनों के विकास में भाग लेकर 'रिद्धि सिद्धि सखी मंडल' को प्रोत्साहित किया है। उनके घर के पास एक बेकरी इकाई और आउटलेट की जगह प्रदान की है।
मंत्री कल्पना गायकवाड़ ने कहा कि समूह, जिसका सालाना 7 लाख रुपये का कारोबार है, 50 प्रतिशत लाभ का मार्जिन कमाता है, "कंपनी ने स्थानीय किसानों द्वारा उत्पादित कृषि उपज को और विकसित करने के लिए खरीदने और बेचने के लिए भी कदम बढ़ाया है।  सखी मंडल की अध्यक्ष श्रीमती सुमित्रा पाडवी ने कहा कि मंडल के आउटलेट में दाल, बांस के अचार, डांगी की चटनी, मसाले, हल्दी, धनिया, सेंधा नमक, लाल और काले चावल,  सहित कई तरह की नागली वस्तुएं बिकती हैं। आहवा-वघई मार्ग पर नडगखड़ी गांव के एसटी स्टैंड के बगल में स्थित, आउटलेट का नियमित रूप से गणमान्य व्यक्तियों, अधिकारियों और पर्यटकों द्वारा दौरा किया जाता है।
ग्रामीण महिलाओं को 'आत्मनिर्भर' एवं 'सशक्त' बनाने वाले 'सखी मंडल' के माध्यम से स्थानीय रोजगार के लक्ष्य को प्राप्त करने के सरकार के प्रयासों से अवगत डांग कलेक्टर  भाविन पंड्या ने भी इस पहल को आगे बढ़ाया। जाट का दौरा किया, गतिविधियों पर संतोष व्यक्त किया। आर्थिक रूप से संपन्न ये ग्रामीण महिलाएं गांवों में अपनी घरेलू जिम्मेदारियों को निभाने के अलावा गर्व से 'हम भी किसी से कम नहीं' कह रही हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें