सूरत : गजेरा स्कूल ने कक्षा 6 से 8 की कक्षा अवैधरूप से शुरू करने पर पुलिस ने की कार्यवाही

अवैध रूप से स्कूल शुरू करने पर पुलिस ने कार्यवाही शुरू की

कोरोना नियमों की ऐसी तैसी करते हुए गजेरा स्कूल के संचालको नें छात्रों की जान जोखिम में डालकर सरकार की परमिशन के बगैर कक्षा ६ से ८ की स्कूल शुरू कर दी।

एक बेन्चीस पर तीन तीन छात्रों को बिठाकर किया कोविड नियमों तथा अधिसूचना का उल्लंघन 
सूरत  गुजरात में कोरोना संक्रमण काफी हद तक काबू में आने के बाद राज्य सरकार ने कक्षा 9 से 12 और कॉलेज में शिक्षा कार्य शुरू करने की मंजूरी प्रदान की है। लेकिन कक्षा 1 से 8 की स्कूलों में शिक्षा कार्य को लेकर फिलहाल सरकार ने कोई फैसला नहीं किया है। इसके बावजूद सूरत की गजेरा स्कूल ने कोविड नियमों की ऐसी तैसी करते हुए कक्षा 6 से 8 के विद्यार्थियों को स्कूल बुलाया। सूरत के कतारगाम स्थित गजेरा स्कूल में न सिर्फ विद्यार्थियों को बुलाया गया, बल्कि सोशल डिस्टेंस का उल्लंघन करते हुए उन्हें साथ में बैठाया गया। 1 अगस्त से कक्षा 6 से 8 विद्यार्थियों को स्कूल बुलाए जाने और एक ही बैंच पर तीन-तीन विद्यार्थियों को बिठाकर पढ़ाई कराने के चित्र सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद स्कूल में आज हंगामा मच गया। ज्यादार अभिभावक अपने बच्चों को लेने के स्कूल पहुंच गए। कोविड नियमो का उल्लंघन करने के बावजूद स्कूल संचालक अपनी गलती मानने को तैयार नहीं है। स्कूल संचालक का कहना है कि विद्यार्थियों को केवल नोटबुक की जांच के लिए स्कूल बुलाया गया था। स्कूल में हंगामे के बाद कतारगाम पुलिस भी घटनास्थल पर पहुंच गई जांच शुरू कर दी। दूसरी ओर जिला शिक्षा अधिकारी ने जिम्मेदारों के खिलाफ कार्यवाही का आश्वासन देते हुए मामले की जांच के आदेश दे दिए हैं। राजनीतिक रसूख रखने वाले स्कूल संचालकों के खिलाफ क्या कार्यवाही की जाती है, यह तो आनेवाला वक्त ही बताएगा। बता दें कि गजेरा स्कूल भाजपा नेता धीरू गजेरा की है, जो हाल ही में कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल हुए हैं। दूसरी ओर मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने कहा है कि यदि गजेरा स्कूल में किसी भी अधिसूचना का उल्लंघन करने का मामला सरकार बर्दाश्त नहीं करेगी। यदि गजेरा स्कूल कोविड गाइडलाइन का उल्लंघन किया है तो उसके खिलाफ कार्यवाही की जाएगी। फिलहाल इस मामले की अधिकारी जांच कर रहे हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें