सूरतः महिधरपुरा हीरा बाजार में भीड़ जमा होने के बाद पुलिस मौके पर पहुंची

पुलिस ने पेट्रोलिंग कर लोगों की भीड़ दूर किया

बंदोबस्त में तैनात पुलिस की सतर्कता से भीड़ को तितर-बितर किया गया

सूरत शहर में स्थिति कुछ हद तक नियंत्रण में आ रही है, लेकिन महिधरपुरा में, फिर से शुरू किए गए कार्यों का विरोध किया गया। रहीशों के विरोध करने के बाद पुलिस जागी। महिधरपुरा हीरा बाजार में कुछ कारखानों को सोमवार को सुबह से शुरू किया गया था, जिसमें  सरकार द्वारा तय किए गए लोगों से अधिक लोगों को बैठाया गया था। हीरा दलालों ने कार्यालय खोला और बैठ गए। पु‌ल‌िस बंदोबस्त पुलिस होने के बावजूद पुलिस द्वारा कोई ठोस कार्रवाई नहीं करने से  कारखानें चल रहीं थी। महिधरपुरा हीरा बाजार में एक आवासीय क्षेत्र भी शामिल है। बड़ी संख्या में लोगों के यहां रहने से कोरोना संक्रमण फैलने की दहशत भी रहती है।  स्थानीय लोगों द्वारा  विरोध किये जाने पर पुलिस सक्रिय हो गई। 
स्थानीय निवासियों ने कारखाना  बंद कराने की कोशिश शुरू किया था, लेकिन स्थानीय लोगों ने  पुलिस को भी आड़े हाथ लिया था। स्थानीय लोगों के विरोध के बाद पुलिस ने कदम उठाया।  स्थानीय लोगों के गुस्से को भांपते हुए पुलिस ने तत्काल प्रभाव से कारखाने को बंद कर दिया।
महिधरपुरा मार्केट में कारखाना के बेधड़क रुप से किये जाने की जानकारी मिलने पर कैमरे में कैद करने गये कैमरा मैन को भी कारखाने के मालिकों ने धमकाया था।  पुलिस को तटस्थता पूर्वक अपना फर्ज निभाना जरुरी है। शहर में कोरोना का लगातार संक्रमण जारी है।  ऐसे में  उनके उदासीन रवैये के कारण कोरोना का डर एक बार फिर से देखा जा रहा है।
हीरा बाजार और कपड़ा बाजार यदि योग्य रुप से सरकार के नियमों का पालन करे तो शहर में कोरोना संक्रमण बढ़ने की संभावान कम रहेगी।  सबसे ज्यादा आना-जाना हीरा बाजार और कपड़ा बाजारों में है। पालिका  हीरा, कपड़ा बाजार में व्यापारियों के साथ समय-समय पर बैठकें कर इस मुद्दे की गंभीरता पर चर्चा करता है। लेकिन बाजार प्रबंधक और विभिन्न संघ इसे गंभीरता से नहीं लेते हैं, ऐसा माना जा रहा है। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें