सूरत महानगरपालिका जल संचयन की नई योजना की घोषणा

प्रतिकारात्मक तस्वीर

बरसाती मीठे पानी को जमीन में बोर वेल के माध्यम से उतारा जाएगा जिससे भुगर्भ जल स्तर में वृद्धि होगी

सूरत निगम, एसआरपी-पुलिस के सहयोग से नगर निगम की जमीन का अवैध रूप से अतिक्रमण करनेवालों से कब्जा  प्राप्त करेगी 
सूरत नगर निगम की स्थायी समिति की बैठक में कुछ अहम मुद्दों पर फैसला लिया गया। जिसमें निगम  बारिश के पानी की हर बार होती बर्बादी को रोकने की योजना बना रहा है। मानसून के दौरान स्वच्छ जल भंडारण प्रणाली की कमी के कारण लाखों लीटर पानी बर्बाद हो जाता है। प्राकृतिक स्रोत वर्षा जल के भंडारण के लिए निगम नई योजना की घोषणा करने की तैयारी कर रहा है। मीठे पानी को जल संचयन द्वारा पुन: पेश किया जा सकता है या संग्रहीत किया जा सकता है जिससे भूजल स्तर बढ़ सकता है।
निगम ने एसवीएनआईटी कॉलेज के विशेषज्ञों से वोटरहार्वेस्टींग पर परामर्श से पानी के भंडारण की योजना बनाई है। छोटे घर, रो हाउस अपार्टमेंट या ऊंची इमारत में विभिन्न प्रकार के जल भंडारण के लिए डिज़ाइन किया गया। डिजाइन एसवीएनआईटी कॉलेज के विशेषज्ञों ने तैयार किया है। निगम लागत का 70 से 80 प्रतिशत भुगतान करने की योजना बना रहा है जिसके लिए निगम भुगतान करेगा। वर्षा जल के स्रोत को बनाए रखा जाएगा और इसके लिए योजनाओं की घोषणा की जाएगी।
 निगम के विभिन्न क्षेत्रों में जमीन पर कब्जा होने की शिकायत लंबे समय से की जा रही थी। नगर निगम की जमीन पर कब्जा वापस लेने के लिए निगम पिछले पांच साल से प्रयास कर रहा है, लेकिन सफलता नहीं मिली है। स्थायी समिति द्वारा यह निर्णय लिया गया है कि स्थानीय पुलिस और एसआरपी की मदद से जमीन के चारों ओर दीवार बनाकर पालिका अपनी जमीन पर दुसरों को कब्जा करने से रोक सकेगी। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें