सूरत : लिंबायत क्षेत्र में शांतिपूर्वक गणेश विसर्जन यात्रा संपन्न

सूरत में लिंबायत के सुभाष नगर सर्कल पर पुलिस का कडा बंदोबस्त

दो दशक से लिंबायत क्षेत्र में गणेश विसर्जन के लिए काफि संवेदनशिल माना जाता था मगर पिछले कुछ सालों से इस क्षेत्र में शांतिपूर्वक विसर्जन यात्रा संपन्न होने पर स्थानिय लोगों के साथ पुलिस प्रशासन राहत की सांस लेता है।

सूरत तेलुगु आदर्श मित्र मंडल द्वारा प्रजा और पुलिस प्रशासन की प्रशंसा की
सूरत शहर के लिंबायत क्षेत्र में देश के सभी अलग अलग  प्रांतों के लोगों की आबादी है। लिंबायत क्षेत्र में गणेश विसर्जन यात्रा बहुत ही धुमधाम से निकलती है। इस वर्ष भी गणेश विसर्जन यात्रा कडे पुलिस बंदोबस्त , सामाजिक संस्थाओं के अग्रणी और शांती समिति के सदस्यों की महेनत से शांतिपूर्वक संपन्न हुई। इस क्षेत्र में रहनेवाले सभी धर्मो के लोगों ने त्यौहार पर संयम और शांति दिखाते हुए विसर्जन यात्रा में जुडे थे। मुस्लिम भाईओं ने भी सुभाषनगर सर्कल पर गणेशभक्तों का स्वागत करके सहयोग दिया था जो सराहनीय है। लिंबायत क्षेत्र से गणेश विसर्जन यात्रा शांतिपूर्वक संपन्न होने पर सूरत तेलुगु ‌आदर्श मित्र मंडल के प्रमुख गोने सोमैया, महामंत्री रापोलु बुच्चिरामुलु, तेलुगु समाज के अग्रणी श्रीमति लक्ष्मीबेन रापोलु, कविताबेन एनगंदुला, दासरी श्रीनिवास, वेन्नम श्रीरामुलु, चिटयाला रामु, हरिकाला नर्सो, प्रकाश, रमेश तुममा आदी ने पुलिस प्रशासन और धर्म प्रेमीओ, गणेशभक्तो का आभार व्यक्त किया। 
उल्लेखनिय है कि लिंबायत क्षेत्र गणेश विसर्जन के लिए अतिसंवेधन क्षेत्र रहा है। दो दशक पूर्व लिंबायत क्षेत्र में गणेश विसर्जन यात्रा के मार्ग को लेकर पुलिस और गणेशभक्तों के बीच बहस हुई थी। पुलिस को परिस्थिति काबु में करने के लिए उस समय फायरींग करनी पडी थी जिसमें नव गणेशभक्तों की मौत हुई थी। इस समय से लिंबायत क्षेत्र गणेश विसर्जन के लिए काफी संवेदनशील माना जाता है। पिछले तीन चार सालों से लिंबायत पुलिस और स्थानिय अग्रणीयों एवं गणेशभक्तों के समाधानकारी बर्ताव के कारण विसर्जन यात्रा विभिन्न मार्गो से निकलनी शुरू हो गयी है। जिसके कारण मदिना मस्जिद वाले रूट पर गणेश विजर्सन यात्रा बंद जैसी हो गयी है। इस लिए लिंबायत क्षेत्र में गणेश विसर्जन शांतिपूर्वक संपन्न होने पर स्थानिय लोगों के साथ पुलिस प्रशासन राहत की सांस लेता है। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें