सूरतः : मास्क एक मिनट के लिए भी खोलने की आदत हो तो घर से न निकलेः मनपा आयुक्त

पालिका आयुक्त बंच्छानिधि पानी

मनपा आयुक्त ने दी चेतावनी- कोरोना की दूसरी लहर बहुत घातक, वेंटिलेटर का सहारा लेना पड़ सकता है

संक्रमण दो दिनों के भीतर फेफड़ों में प्रवेश करता है: बंच्छानिधि पानी
कोरोना ने शहर में एक भायावह  स्थिति पैदा कर दी है। प्रशासन भी बौना साबित हो रहा है और लोगों को रिझाने के लिए दैनिक अपील की जा रही है। कोरोना की दूसरी लहर अधिक घातक है। चेप लगने के दो दिन के भीतर ही फेफड़े में प्रवेश कर देता है , जिससे वेन्टीलेटर के सहारे रहना पड़ सकता है, ऐसी चेतावनी दी जा रही है। मनपा आयुक्त ने सख्त लहजे में कहा कि यदि  आपको एक मिनट के लिए भी मास्क  खोलने की आदत है, तो  घर से न निकले। साथ ही  किसी अन्य व्यक्ति से मिलने से बचने की अपील की है।
आयुक्त बंच्छानिधि पाणि ने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर पिछली लहर की तुलना में अधिक संक्रामक और घातक है। हमें  मास्क पहन कर ही बाहर जाना चाहिए, अगर किसी को दूसरे व्यक्ति से बात करने के लिए एक मिनट भी मास्क खोलने की आदत है, तो घर से बाहर जाने से बचें। क्योंकि वर्तमान में जो कोरोना का चेप लग रहा है वह सीधे  फेफड़ों में प्रवेश करता है। जिनके लक्षण हैं, उन्हें परीक्षण नहीं कराने पर ऑक्सीजन और वेंटिलेटर की आवश्यकता हो सकती है। वर्तमान में कुछ दिनों के लिए परिवार के अलावा किसी और से मिलने से बचना चाहिए, साथ ही कोरोना के संक्रमित क्षेत्रों से नहीं जाना चाहिए। कोरोना के संक्रमित क्षेत्र के लोगों को अन्य क्षेत्रों में जाने से बचना चाहिए। जो कोई भी सकारात्मक है उसे अनिवार्य कोरोन्टाइन होना आवश्यक है, कानून और सरकारी दिशानिर्देशों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ मुकदमा चलाया जाएगा।
छोटा वराछा, बड़ा वराछा, सरथाना, सीमाडा, पुणे गाँवों में बहुत संक्रमण है इसलिए द्वीप नीति के अनुसार वहाँ रहें। मध्य क्षेत्र में नानपुरा, पूर्व क्षेत्र-ए में वराछा में भाग्योदय, पश्चिम क्षेत्र में पालनपुर, जहाँगीरपुरा, कतारगाम, उत्तर क्षेत्र में जिल पार्क, अखंड आनंद, डभोली, ललिता-रणछोड़ पार्क और अमरोली के साथ-साथ दक्षिण में मीरानगर, विजयनगर, बमरोली, भेस्तान, अलाथाण, पिपलोद, वेसू,  मगोब,, गोडादरा और डिंडोली में अधिक संक्रमण होने के कारण नागरिकों को यथासंभव इन क्षेत्रों का दौरा नहीं करना चाहिए। यदि आपको जाना है, तो मास्क और कोविड के नियमों का पालन करें।
जिनके घर में एक भी सकारात्मक व्यक्ति है जो भी उस सकारात्मक व्यक्ति के संपर्क में हैं उन्हें कोरोन्टाइन में रहना होगा। यदि वे किसी भी तरह से कोरोन्टाइन  प्रक्रिया का उल्लंघन करते हैं, तो उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी। यदि कोई व्यक्ति  परिवार में सकारात्मक है, तो वह घर से बाहर न निकले।  

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें