सूरतः दैनिक 160 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की आपूर्ति, ऑक्सीजन की कमी का निराकरण

सभी के प्रयासों से ऑक्सीजन की कमी को पूरा किया जा सका

लोगों ने ऑक्सीजन की मांग के सामने ऑक्सीजन की संतुलित आपूर्ति प्रदान करने का कठिन काम किया

वरिष्ठ अधिकारियों, अस्पताल अधिकारियों और निर्माताओं के संयुक्त प्रयासों से ऑक्सीजन की कमी को पूरा किया जा सका 
कोरोना संकट के बीच अप्रैल माह दरम्यान कोरोना केसों में उछाल आने से  ऑक्सीजन का उपयोग अचानक बढ़ गया था। देश भर में कोविड मामलों की सतत संख्या और ऑक्सीजन की मांग के बीच एक समय तो शहर में ऑक्सीजन के भारी कमी हो रही थी।  लेकिन जिला प्रशासन के  अधिकारियों की कठिन मेहनत से स्थिति पटरी पर ला दिया। जिसके कारण सूरत में ऑक्सीजन की कमी की स्थिति और खराब नहीं हुई। मरीजों को राज्य सरकार की मदद से मौत के कगार से बचाया गया था। तुरंत ऑक्सीजन और राहत प्रदान की गई और  टीम वर्क का एक उत्कृष्ट उदाहरण प्रदान किया। सूरत में प्रतिदिन 160 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की आपूर्ति की जा रही है।
आमतौर पर 195 मीट्रिक टन ऑक्सीजन का उपयोग राज्य भर में प्रतिदिन किया जाता है, लेकिन कोविड के दूसरे चरण में 1150 मीट्रिक टन की वृद्धि देखी गई। मार्च में देश में कोरोना के मामले धीरे-धीरे बढ़ रहे थे। जिससे गुजरात और सूरत भी अछूता नहीं रहा। सूरत की बात करें तो कोविड के लगातार बढ़ते संक्रमण के बीच मार्च में खपत 64 मीट्रिक टन थी। जो अप्रैल महीने के दौरान, 22 अप्रैल को ऑक्सीजन की खपत 241 मीट्रिक टन के चरम पर पहुंच गई।
नई सिविल तथा स्मीमेर अस्पताल के अलावा शहर के निजी अस्पतालों में समय से आपूर्ति पहुंचे इसके लिए जिला कलेक्टर डॉ. धवल पटेल और जीआईडीसी के एमडी  और सूरत में कोविड के लिए विशेष कर्तव्य पर एक अधिकारी एम. थेनारसन की सतर्कता के कारण, सूरत के लोगों के ऑक्सीजन की मांग के सामने ऑक्सीजन की आपूर्ति प्रदान करने का कठिन कार्य किया। प्रशासन ने ऑक्सीजन की आपूर्ति और खरीद के लिए विभिन्न मोर्चों पर काम किया है और परिणाम हम सभी के सामने है। एक स्तर पर, अधिकारियों ने खुद आईनॉक्स कंपनी के पास जाकर मध्य प्रदेश के टैंकरों में ऑक्सीजन की रिफिलिंग रोक दी और सूरत में टैंकरों की पहली रिफिलिंग का आग्रह किया। परिणामस्वरूप, मध्य प्रदेश से पहले सूरत को ऑक्सीजन रिफिल के लिए प्राथमिकता मिली।
खाद्य एवं औषधि विभाग के सहायक आयुक्त रूपम पटेल ने कहा कि शुरुआत में आइनोक्स कंपनी की ओर से सूरत में 120 से 130 मीट्रिक टन ऑक्सीजन और लिंडे से 15-20 मीट्रिक टन ऑक्सीजन मिलती थी। जिसने शहर की मांग को पूरा किया। लेकिन एक स्तर पर, मामलों में वृद्धि के परिणामस्वरूप, ऑक्सीजन की आवश्यकता में अचानक वृद्धि की निगरानी के लिए क्लास वन के 20 अधिकारियों की एक टीम का गठन करके नियंत्रण कक्ष शुरू किया गया था। सूरत में पहले एक तरल ऑक्सीजन उत्पादक, एक वायु पृथक्करण इकाई और छह रिफिलर थे। बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए दो घंटे के भीतर खाद्य और औषधि प्रशासन द्वारा एक और तरल ऑक्सीजन निर्माता, एक एयर सेपरेशन प्लांट और एक रिफाइनरी को लाइसेंस दिया गया था और उन्होंने उसी दिन से अस्पतालों में ऑक्सीजन की आपूर्ति शुरू कर दी थी। टैंकर की कमी को कम करने के लिए रिफिलरों से तीन नाइट्रोजन टैंकरों को ऑक्सीजन टैंकरों में परिवर्तित किया गया। इसके अलावा नाइट्रोजन भंडारण टैंक को भी ऑक्सीजन भंडारण टैंक में बदल दिया गया था।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें