सूरत : सिटी पुलिस और आधुनिक बनेगी, 975 बोडी वोर्न कैमरे आवंटित

गांधीनगर स्थित कंट्रोल रूम में 3 कैमरों का सीधा प्रसारण

884 बॉडी-2 टाइप कैमरा और 91 बॉडी-3 टाइप कैमरा शामिल है, कैमरा उपयोग के लिए प्रशिक्षण

यह कैमरा सबूत के लिए सबसे मजबूत और सबसे विश्वसनीय है
सूरत पुलिस और आधुनिक होने जा रही है। शहर की पुलिस को अधिकतम आधुनिकता के साथ जोड़कर संचालन को अधिक सटीक और ईमानदार बनाने के उद्देश्य से सूरत पुलिस को बॉडी वार्न कैमरों से लैस किया जा रहा है। प्रशिक्षण का आयोजन बॉडी वार्न कैमरों के उपयोग के उद्देश्य से किया गया था। प्रशिक्षण सभी थानों के कुल 250 पुलिस कर्मियों, डीसीपी, एसीपी, सभी पुलिस स्टेशनों के स्टेशन अधिकारियों, सभी पुलिस स्टेशनों, यातायात और अन्य शाखाओं के लिए आयोजित किया गया था। एक्षन कंपनी के विशेषज्ञों द्वारा तीन सत्रों में बॉडी वार्न कैमरा विशेषज्ञ जकशीभाई भारवाड़ और उनकी टीम ने बॉडी वार्न कैमरा संचालित करने, इसका बैकअप लेने, कैमरे को चार्ज करने और कैमरे में विभिन्न कार्यों के दौरान कैमरे द्वारा दिए गए संकेतों के बारे में जानकारी देने के लिए प्रशिक्षित किया गया था।
बॉडी वार्न कैमरा का इस्तेमाल थाने में ट्रैफिक नियमन और पेट्रोलिंग के दौरान, थाने में जांच के दौरान और छापेमारी के दौरान और रैली जुलूस के दौरान किया जाता था। यह बॉडी वार्न कैमरा पुलिस को अपने कर्तव्यों को सक्रिय रूप से और सचेत रूप से करने में मदद करेगा और लोगों के प्रति पुलिस के व्यवहार और पुलिस के प्रति लोगों के व्यवहार और घर्षण में भी प्रभावी भूमिका निभाएगा। बॉडी वार्न कैमरे की पुलिस थाने के सभी क्षेत्रीय कार्यालयों और यातायात शाखा से लगातार निगरानी की जाएगी साथ ही गांधीनगर स्थित कंट्रोल रूम में एक्षन 3 कैमरे का सीधा प्रसारण देखा जा सकता है। आज लाइव कैमरे का इस्तेमाल डेमो के लिए किया गया, फिर यह बॉडी वारियर कैमरा "GO Live" होगा और प्रभावी संचालन शुरू किया जाएगा।
पुलिस आयुक्त अजय तोमर ने कहा कि कैमरे लगने से पुलिस और जनता के व्यवहार में काफी बदलाव आएगा। यह कैमरा सीधे गांधीनगर से जुड़ा होगा। यह सबसे मजबूत और सबसे विश्वसनीय सबूत है। कैमरे न सिर्फ ट्रैफिक बल्कि पुलिस के अन्य ऑपरेशनों में भी अहम भूमिका निभा सकेंगे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें