सूरत : गूगल पर तंबाकू की शॉप सर्च कर रेकी के बाद रात में चोरी करने वाले गिरोह को धरदबोचा

(Photo: IANS)

हैदराबाद से ट्रेन या लक्जरी से सूरत आते थे और रेकी करने के लिए एक मोपेड किराए पर लेते थे

सूरत के विभिन्न इलाकों में तंबाकू की दुकानों को गूगल सर्च कर मोपेड किराए पर लेकर रेकी करने के बाद रात को चोरी की वारदात को अंजाम देने वाले गिरोह को क्राइम ब्रांच ने धरदबोचा। गिरोह के पास से 1.89 लाख रुपये की ब्रांडेड सिगरेट, पानमसाला और गुटखा बरामद किया है। गिरोह का सरगना हैदराबाद का रहने वाला राजस्थानी युवक लालगेट इलाके में एक काजू की दुकान से 31.90 लाख रुपये के काजू चोरी करने के मामले में वांछित है।
क्राइम ब्रांच को प्राप्त सूचना के आधार पर सरदार मार्केट खाड़ी ब्रिज के पास सर्विस रोड से गौतम कुमार भंवरसिंह राजपुरोहित (उम्र 23), जगदीश कुमार पारसमलजी माली (उम्र 22) (दोनों मूल निवासी रूकुसिप भीम गांव, बाड़मेर, राजस्थान और चागनावाडी, घोषा महल, नामपल्ली हैदराबाद में रहते है) और शिवकुमार उर्फ ​​मनीष कुलचंद कुशवाह (उम्र 21, गलेहिटोला, सतना, मध्य प्रदेश) को गिरफ्तार कर उनके पास से विभिन्न ब्रांडों की े सिगरेट के अलावा, बीडी, पानमसाला, रजनीगंधा, 30,000 रुपये कीमत के तीन मोबाइल मोबाइल मिलाकर कुल 2,19,791 रुपये का मुद्दामाल जब्त किया है। तीनों से पूछताछ में उन्होंने 8 तारीख की रात डिंडोली साईं कॉम्प्लेक्स में साईनाथ टोबेको से 1.89 लाख रुपये कीमत की तंबाकू  चोरी करने की बात कबूल की।
उससे पूछताछ में पता चला कि वह हैदराबाद से ट्रेन या लग्जरी बस से सूरत आता थे और उसका सहयोगी शिवकुमार उर्फ ​​मनीष सूरत शहर में तंबाकू गुटखा की विभिन्न दुकानों को गूगल पर सर्च कर पता लगाता था। बाद में दिन में एक मोपेड ऑनलाइन किराए पर लेकर दुकान पर जाते थे। वहां जगदीश कुमार सेल्समैन बनकर रेकी करते थे। बाद में रात में वे फिर से दुकान पर जाते थे और शटर पर लगे ताले की तस्वीरें लेकरडुप्लीकेट चाबियां बनाकर शटर खोलकर चोरी करते थे। जहां कहीं भी ताले की चाबी बनाने में दिक्कत होती थी, वहां मास्टर चाबी लगाकर छाप लेते थे। चोरी का सामान गौतम और जगदीश कुमार ने हाल ही में शुरू हुई तंबाकू एजेंसी के जरिए बेचते थे। उन्होंने पहले तीन बार सूरत में कोशिश की थी लेकिन डिंडोली में उन्हें बड़ी सफलता मिली थी।




इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें