सूरत : ऑनलाइन पिल्ला बेचने के नाम पर एक व्यक्ति के साथ हुई ठगी, जानिए क्या है पूरा मामला

फाइल तस्वीर

ऑनलाइन विज्ञापन देखकर पिल्ला खरीदने के लिए ग्राहक ने चुकाए 8 लाख से अधिक पैसे, न पिल्ला मिला न पैसे

आज के समय में एक ओर जहां अधिकांश चीजें ऑनलाइन उपलब्ध है। इन दिनों ऑनलाइन शॉपिंग का क्रेज बढ़ता ही जा रहा है, वहीं दूसरी ओर हर बीते दिन साथ ऑनलाइन फ्रॉड बढ़ गया है। इसी बीच एक ऑनलाइन वेब साइट पर पिल्लों को बेचने का एक विज्ञापन देकर ग्राहक से पिल्ला खरीदने के नाम पर अलग-अलग शुल्क बताकर काफी पैसें ऐठकर ग्राहक को पिल्ला नहीं देने का मामला सामने आया है। साइबर पुलिस ने मामले में पश्चिम अफ्रीकी आरोपी को बंगलुरू से गिरफ्तार कर ऑनलाइन साइबर अपराध की गुत्थी सुलझा ली है।
आपको बता दें कि तेजी से बढ़ रहे साइबर अपराध को ध्यान में रखते हुए सूरत पुलिस द्वारा एक बुकलेट जारी की गई है। जिसमें साइबर से जुड़ी तमाम जानकारियों के साथ-साथ कुछ अनुकरणीय मामलों को भी दर्शाया गया है। फिर ऐसी घटना सूरत शहर में सामने आई। घटना की बात करें तो 7 मई को एक व्यक्ति द्वारा एक वेबसाइट पर13000 रुपये में एक कुत्ते के बच्चे को  बेचने का एक विज्ञापन डाला गया था। इस विज्ञापन को देखकर एक ग्राहक ने पिल्ला खरीदने के लिए रजिस्ट्रेशन कराया था। ग्राहक ने अपना नाम, पता और मोबाइल नंबर की जानकारी देते हुए पेटीएम के जरिए पैसे ट्रांसफर किए।
(Photo Credit : tv9gujarati.com)
उसके बाद ठगों ने ग्राहक से बात की और उन्हें अलग-अलग चार्ज जैसे बीमा, ब्रीडर लाइसेंस सर्टिफिकेट, क्वारंटाइन सर्टिफिकेट चार्ज आदि मिलकर 1,62,400 रुपये और आईडीएफसी बैंक के माध्यम से 6,68,800 रुपये ऐसे में कुल 8,62,200 रुपये स्थानांतरित किए गए। इसके बाद भी आज तक ग्राहक को न तो पिल्ला मिला न ही पैसे! इस बीच जब ग्राहक को पता चला कि उसके साथ धोखाधड़ी हुई है तो उसने सूरत साइबर क्राइम ब्रांच थाने में शिकायत दर्ज कराई।
धोखाधड़ी का शिकार हुए एक ग्राहक की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज किया था। इस बीच, पुलिस ने एक गुप्त सूचना पर पश्चिम अफ्रीकी न्योंगबसेन हिलेरी को बंगलुरू पहुंचाया और उसके पास से पांच मोबाइल फोन जब्त किए। फिलहाल मामले की जाँच चल रही है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें