राजकोट : ‘हमारी जाति में कोई लड़की जब तक 35 लाख नहीं देती तो हम ऐसी लड़की को घर में पैर नहीं रखने देते!’ ऐसा कहते हुए ससुराल पक्ष ने महिला को घर से निकाला

प्रतिकात्मक तस्वीर

राज्य में आये दिन दहेज़ और अन्य कारणों से विवाहित महिलाओं पर ससुराल पक्षों द्वारा प्रताड़ित करने का मामला सामने आता रहता है। अब राजकोट में ऐसा ही मामला सामने आया है जहाँ के राइया रोड, सुभाषनगर-6 में पिछले दो साल से रह रही हेतलबेन नाम की महिला ने अहमदाबाद के मणिनगर में रहने वाले अपने पति जिग्नेश प्रणलाल भट्ट, नंद रिताबेन शैलेशभाई भट्ट, तृप्तिबेन और रिताबेन की बेटी कृपा समेत ससुराल पक्ष द्वारा दहेज सहित अन्य मुद्दों पर प्रताड़ित करने शिकायत पुलिस में दर्ज कराई है।

जानिए क्या है मामला


मामले में बीएससी तक की पढ़ाई करने वाली परिणीता की शिकायत के मुताबिक, उन्होंने 2018 में जिग्नेश से अहमदाबाद में आर्य समाज समारोह के जरिए शादी कर ली। यह उनकी दूसरी शादी है। शादी के बाद पति और दोनों ननद और उसकी बेटी ने प्रताड़ित करने लगे। सब कहते थे कि हमारी जाति में कोई लड़की जब तक 35 लाख नहीं देती तो हम ऐसी लड़की को घर में पैर नहीं रखने देते! ऐसा कहते हुए ससुराल वालों ने दहेज की मांग शुरू कर दी। शादी के चौथे दिन से ही पति समेत ससुराल वालों ने कहा स तरह 35 लाख के दहेज की मांग की गई।

अंत में महिला ने ली पुलिस की मदद


इसके बाद ननद को महिला के पति को उसके खिलाफ भड़काने लगी। जिस वजह से पति आपस में झगड़ता था और कहता था कि अगर तुम इस घर में रहना चाहती हो तो तुम मेरी बहनों के कहे अनुसार करो नहीं तो अपने घर चला जाएगा। शादी के चार महीने बाद ही पति अक्सर उसे मायके भेजने के नाम पर प्रताड़ित करने लगा। महिला ने दूसरी शादी के बारे में सोचते हुए सब कुछ सहती है। महिला का पति और ननद पूरा फायदा उठाते थे और उसे मानसिक और शारीरिक रूप से प्रताड़ित करते थे। इतना ही नहीं ननद की बेटी भी महिला के साथ दुर्व्यवहार करती थी। इसके बाद ननद का पति भी इसमें शामिल हो गया और दो साल पहले पति ने महिला को घर से निकाल दिया। बहुत कोशिश के बाद भी जब कुछ सही नहीं हुआ और धीरे-धीरे जब प्रताड़ना बढ़ती ही रही तो आखिरकार महिला और उसके परिवार ने पुलिस में शिकायत दर्ज करा दी।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें