राजकोट : एसआरपी सिपाही की पत्नी इंस्टाग्राम पर कर रही थी किसी से चैट, पति ने डांटा तो कर ली आत्महत्या

प्रतिकात्मक तस्वीर (Photo : IANS)

मृतक महिला की दो-दो बेटियों ने खोया माँ का आंचल

राजकोट के घंटेश्वर के पास एसआरपी कैंप क्वार्टर निवासी प्रितिकाबेन अतुलभाई गमीत (33) ने आज सुबह अपने घर में अकेले रहने के दौरान पंखे से लटक कर आत्महत्या कर ली. उसके शव को पोस्टमॉर्टम के लिए सिविल अस्पताल ले जाया गया। राजकोट में अपने पति के साथ रहनेवाली प्रितिकाबेन का मायका तापी जिले में स्थित है। उनकी शादी को 11 साल हो चुके हैं और उनकी दो बेटियां हैं। प्रारंभिक पुलिस जांच में पता चला है कि प्रितिकाबेन इंस्टाग्राम पर किसी से चैट कर रही थीं, इस पर जब उनके पति ने उन्हें डांटा तो उन्होंने आत्महत्या कर ली।

मृतक की हैं दो बेटियां 


आपको बता दें कि मृतक पत्नी का पति एसआरपी में सिपाही के पद पर कार्यरत है। सुबह दो बेटियों के स्कूल जाने के बाद प्रितिकाबेन इंस्टाग्राम पर किसी से चैट कर रही थीं. तब पति अतुलभाई ने उन्हें फटकार लगाई और दोनों के बीच कहासुनी होने लगी। फिर पति परेड के लिए निकले और जब अतुलभाई 10.30 बजे परेड से लौटे तो मुख्य दरवाजा खुला था और कमरे का दरवाजा बंद था. इस पर जब उन्होंने दरवाजा खटखटाया और प्रितिकाबेन ने दरवाजा नहीं खोला तो तुरंत कमरे का दरवाजा तोड़कर अंदर प्रवेश किया. अंदर जाने पर पति ने देखा कि अंदर पत्नी प्रितिकाबेन का शव लटका हुआ है. फिर तुरंत 108 को सूचित किया गया. प्रितिकाबेन को अस्पताल ले जाया गया जहाँ ड्यूटी पर मौजूद डॉक्टर ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। इस घटना के संबंध में विश्वविद्यालय थाने के कर्मचारियों ने कागजात बनाकर मृतक के परिजनों को सूचना दी. पत्नी की मौत से दोनों बेटियों ने मां की छत्रछाया खो दी है।

बीते दिनों में सामने आये आत्महत्या के कई मामले


गौरतलब है कि कल राजकोट जिले के जामकंदोराना के खटली गांव में भानाभाई पटेल की वाडी में रहने वाली रेखाबेन जयसुखभाई मकवाना (उम्र 23) ने बीमारी से परेशान होने के बाद जहरीली दवा पी ली. इसके बाद उन्हें इलाज के लिए राजकोट के अस्पताल में भर्ती कराया गया था. हालांकि यहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। इससे दो दिन पहले जेतलसर गांव में रहने वाले उद्योगपति के 16 वर्षीय बेटे ने फांसी लगाकर जान दे दी थी।

(आत्महत्या एक गंभीर मनोवैज्ञानिक और सामाजिक समस्या है. अगर आप भी तनाव से गुजर रहे हैं तो भारत सरकार की जीवनसाथी हेल्पलाइन 18002333330 से मदद ले सकते हैं. आपको अपने दोस्तों और रिश्तेदारों से भी बात करनी चाहिए.)

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें