राजकोट : प्रतिष्ठित पन्नालाल फ्रूट पेढी के तीन भाइयों को 20 दिनों में कोरोना ने निगल लिया

(Photo Credit: Dainikbhaskar.com)

एक के बाद एक तीनों भाइयों ने उपचार के दौरान तोड़ा दम

कोरोनारूपी राक्षस एक ही परिवार के कई लोगों को निगल ले रहा है। इसी तरह से राजकोट के जागनाथ क्षेत्र में पन्नालाल फ्रूट वाला नाम की एक फर्म है। यह दुकान वर्षों पुरानी है। पन्नालाल फ्रूट वाला नाम की इस पेढी के मालिक राजकोट के कला केंद्र सोसाइटी में रहते हैं। फिलहाल इस फ्रूट की पेढी को जसानी परिवार चला रहा है।
सबसे पहले बड़े भाई को लगा चेप
कोरोना ने इस पेढी के पारिवारिक तीन भाइयों को छीन लिया। 20 दिन में ही इस परिवार के 3 भाइयों की मौत हो गई। 3 अप्रैल के रोज जसानी परिवार के 60 वर्षीय सबसे बड़े बेटे ओम प्रकाश जसाणी को कोरोनावायरस संक्रमण हुआ था इसके बाद उनका ऑक्सीजन का स्तर लगातार घटते चला गया और 13 अप्रैल के रोज उन उनकी मौत हो गई। इसी दौरान 8 अप्रैल को ओमप्रकाश के छोटे भाई गिरीश जसाणी का रिपोर्ट पॉजिटिव आया गिरीश जसाणी के उपचार के दौरान 22 अप्रैल को उनकी मौत हो गई। गिरीश जसानी का उपचार चल रहा था इस दौरान उनके परिवार के छोटे बेटे यानी कि 47 साल के यशवंत जसानी को 20 अप्रैल के रोज कोरोना का संक्रमण लगा और उन्हें उपचार के लिए ले जाया गया। जहां कि 3 मई को यशवंत जसानी की मौत हो गई।  20 दिन के अंतराल में जसानी परिवार के तीन जनों की मौत हो गई। जसानी परिवार पन्नालाल फ्रूट नाम की पेढी चलाता है। वह बीते 40 साल से कार्यरत है। राजकोट में बड़ी संख्या में लोग यहां से खरीद करते हैं। यह तीनों भाई जरूरतमंद लोगों को निशुल्क फ्रूट देते थे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें