पैरालंपिक (ऊंची कूद) : प्रवीण ने जीता रजत पदक

(Photo Credit : IANS)

पैरालंपिक में प्रवीण का पहला पदक, तीन प्रयास में 2.07 मीटर की ऊंची छलांग के साथ जीता पदक

टोक्यो, 3 सितम्बर (आईएएनएस)| भारत के पैरा एथलीट प्रवीण कुमार ने शुक्रवार को यहां जारी टोक्यो पैरालंपिक खेलों में पुरुष ऊंची कूद टी 64 इवेंट में रजत पदक जीता। प्रवीण ने 2.07 मीटर के निजी सर्वश्रेष्ठ छलांग के साथ दूसरा स्थान हासिल किया। प्रवीण का रजत पदक टोक्यो 2020 में भारत का 11वां पदक रहा। हालांकि, इसके कुछ समय बाद पैरा निशानेबाज अवनि लेखारा ने महिला 50 मीटर राइफल थ्री पॉजिशन एसएच1 इवेंट में कांस्य पदक जीत देश को 12वां पदक दिलाया।
ब्रिटेन के जोनाथन ब्रूम-एडवडर्स ने 2.10 मीटर की अंतिम छलांग के साथ स्वर्ण पदक जीता, जबकि पोलैंड के मैसील लेपियाटो ने 2.04 मीटर की छलांग लगाकर कांस्य पदक जीता। प्रवीण के सामने लेपियाटो और जोनाथन की चुनौती थी। लेकिन लेपियाटो तीन प्रयास में 2.07 मीटर की छलांग नहीं लगा सके और लड़ाई जोनाथन और प्रवीण के बीच सीमित रही।
जोनाथन ने दूसरे प्रयास में 2.10 मीटर की छलांग लगाई लेकिन प्रवीण तीनों प्रयास में उनके स्कोर की बराबरी नहीं कर सके और 2.07 मीटर के साथ उन्होंने अपनी चुनौती समाप्त की जो उनका निजी बेस्ट स्कोर और एशियाई रिकॉर्ड रहा। प्रवीण का पैरालंपिक में यह पहला पदक है। उन्होंने इससे पहले 2019 विश्व पैरा एथलेटिक्स जूनियर चैंपियनशिप में पुरुष ऊंची कूद टी44 इवेंट में रजत पदक जबकि दुबई में इस साल हुए फाजा ग्रां प्री विश्व पैरा एथलेटिक्स में एशियाई रिकॉर्ड के साथ स्वर्ण पदक जीता था।
दिलचस्प बात यह भी है कि प्रवीण को कुछ वर्षो पहले तक पैरा खेल या ऊंची कूद के बारे में कुछ पता नहीं था। उन्हें वॉलीबॉल में रूचि थी लेकिन एक बार उन्होंने ऊंची कूद प्रतियोगिता में भाग लिया और उन्हें एथलेटिक्स विशेषकर ऊंची कूद से लगाव हो गया।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें