नीम हाकिम खतरे जान : अनजान की सलाह पर तीन कोरोना मरीजों ने गटकी मिथीलीन ब्लू की पूरी बोटल, हालत गंभीर

(Photo : Wikipedia.org)

एक अनजान व्यक्ति ने कोरोना मरीजों को दी मिथीलीन ब्लू की बोतलें, दवा समझकर मरीजों ने गटक लिया

देश के हर कोने में कोरोना का आतंक हैं। कोरोना से बचने के लिए सरकार हर संभव प्रयास कर रही हैं। सरकार लोगों को सचेत रहने और सावधानी रखने की सलाह दे रहे हैं। प्रशासन लोगो से सभी दिशानिर्देशों का पालन करने की अपील कर रही हैं और सबसे जरुरी बात लोगों से किसी भी तरह के गलत बातों पर ध्यान ना देने की सलाह दी हैं पर व्हाट्सअप से लेकर सोशल मीडिया के हर साईट पर कोरोना की दवा और असरकारी इलाज बताने वाले लोगों की संख्या कोरोना संक्रमित लोगों से बहुत अधिक हैं। ऐसे में लोग उन नुख्सों को भी अपना लेते हैं जिसे नहीं अपनाना चाहिए। ये नुख्सें कभी-कभी बहुत खतरनाक हो जाते हैं। ऐसे में  राजकोट के सिविल अस्पताल में एक ऐसा ही मामला सामने आया हैं जहाँ तीन कोरोना मरीजों ने मिथीलीन ब्लू की बोतल गटक ली। इसके बाद इन तीन मरीजों की हालत गंभीर है।
प्रतिकात्मक तस्वीर (Photo : IANS)
जानकारी के अनुसार राजकोट के सिविल अस्पताल में कोविड रोगियों के लिए एक पूर्व-प्रक्षेप क्षेत्र स्थापित किया गया है, जहां कोरोना रोगियों को प्राथमिक चिकित्सा के लिए रखा गया है। शुक्रवार शाम को एक अजनबी मिथीलीन ब्लू की बोतलों के साथ वार्ड में आया। उन्होंने मरीजों को मिथीलीन ब्लू की बोतलें दीं। ऐसे में मरीजों ने अस्पताल से ये दावा मिली ये समझकर पूरी बोतल गटक ली। डॉक्टरों ने तुरंत मरीजों को मुख्य भवन में शिफ्ट किया और इलाज शुरू किया। दवा लेने वाले तीन मरीजों की हालत गंभीर है।
आपको बता दें कि एक अजनबी किसी भी जिम्मेदार अधिकारी की अनुमति के बिना अस्पताल गया और रोगी को मिथीलीन ब्लू की बोतल दी। ऐसे में तीन रोगियों ने पूरी बोतल निगल ली। ऐसे में एक बड़ा सवाल सामने आ रहा हैं कि क्यों किसी ने उस व्यक्ति को नहीं रोका? वो कैसे सीधे वार्ड में आ गया और मरीजों को मिथीलीन ब्लू दे सका। हालांकि गौरतलब हैं कि मिथीलीन ब्लू कोरोना रोगियों के लिए असरदार साबित हुआ है। लेकिन बिना डॉक्टर की सलाह के इस दवा को लेना उचित नहीं है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें