जामनगर : राजपूत समाज के 5,000 युवाओं ने शौर्य के साथ तलवारबाजी कर बनाया नया विश्व कीर्तिमान

शहीद हुए वीर शहीदों को अखिल गुजरात राजपूत युवा संघ और भूचर मोरी शहीद स्मारक समिति के नेतृत्व में श्रद्धांजलि देने के क्रम में केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्रसिंह शेखावत के अर्धयाक स्थान पर श्रद्धांजलि समारोह का आयोजन किया गया

हलार पंथक में शहीद हुए वीर शहीदों को अखिल गुजरात राजपूत युवा संघ और भूचर मोरी शहीद स्मारक समिति के नेतृत्व में श्रद्धांजलि देने के क्रम में केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्रसिंह शेखावत के अर्धयाक स्थान पर श्रद्धांजलि समारोह का आयोजन किया गया। इस अवसर पर राजपूत समाज के 5,000 युवाओं ने शौर्य के साथ तलवारबाजी कर नया विश्व कीर्तिमान स्थापित किया। ढरोल के पास ऐतिहासिक शहीद भूमि भूचरमोरी में आयोजित इस श्रद्धांजलि समारोह में बड़ी संख्या में क्षत्रिय समुदाय के नेता मौजूद थे। राज्य के प्राथमिक, माध्यमिक एवं प्रौढ़ शिक्षा मंत्री श्री कीर्तिसिंह वाघेला सहित राज्य भर के क्षत्रिय समुदाय के नेताओं ने इस सम्मान समारोह में भाग लिया और वीर शहीदों को श्रद्धांजलि दी।
जामनगर जिले के ध्रोल में ऐतिहासिक शहादत स्थल भुचरमोरी में 31वां भुचरमोरी शहीद श्रद्धांजलि समारोह आयोजित किया गया। इसमें शीतला साटम पर धरोल भुचरमोरी में 31वें भूचरमोरी शहीद श्रद्धांजलि समारोह में सुबह 10 बजे से 11 मिनट तक 5000 राजपूत युवकों ने तलवारबाजी की। ये कारनामा 'वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड्स लंदन' में जगह मिली और वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड्स की टीम द्वारा गुजरात राजपूत युवा संघ को एक प्रमाण पत्र प्रदान किया गया।
इस समारोह में केंद्रीय जल शक्ति मंत्री श्री गजेंद्रसिंह शेखावत ने कहा, “भूचरमोरी की इस पवित्र भूमि पर देश और धर्म की खातिर अपने प्राणों की आहुति देने वाले वीर शहीदों को मैं नमन करता हूं।” शहीदों का खून इस धरती की धरती पर चन्दन बन गया है। सौराष्ट्र की इस धरती पर वीर योद्धाओं की गाथा पूरी दुनिया में मशहूर है। यह तथ्य कि आज 5000 युवाओं ने तलवारबाजी में विश्व रिकॉर्ड बनाया है, इस बात का पक्का सबूत है कि युवा अभी भी देश के लिए बलिदान देने के लिए तैयार हैं।
सौराष्ट्र की इस धरती के कई वीर योद्धाओं ने देश के लिए अपने प्राणों की आहुति दी है। भूचर मोरी के घर, भगवान कृष्ण की द्वारका नगरी, सोमनाथ के मंदिर, धर्म ने इन स्थानों पर जीत हासिल की है। आगे उन्होंने चार युगों का वर्णन किया और देश के वीर योद्धाओं का वर्णन किया। उन्होंने कहा कि बच्चे के जन्म के समय से ही मां पालने में थिरकते हुए वीर गाथाओं का पाठ करती है। और अभिमन्यु जैसे वीर योद्धाओं ने गर्भ में ही धर्म की रक्षा करने की समझ विकसित कर ली है। देश को बदलने में कई वीरों का भी योगदान रहा है। प्रदेश महामंत्री श्री प्रदीप सिंह वाघेला ने कहा कि भूचरमोरी के घर पर जान की परवाह किए बिना कुर्बानी देने वाले शहीदों को नमन। इस स्थान पर शहीदों को श्रद्धांजलि देने के लिए पिछले 30 वर्षों से हजारों राजपूत युवक इस समारोह में शामिल हो रहे हैं। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें