गुजरात : दाहोद जिले में 'छोटा परिवार, सुखी परिवार' के सूत्र के साथ विभिन्न जन जागरूकता कार्यक्रम

जिला स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा पूरे पखवाड़े में जनजागरूकता एवं स्वास्थ्य उन्मुख कार्यक्रम आयोजित किये गये

24 जुलाई तक, लक्षित दंपतियों को परिवार कल्याण के स्थायी और गैर-स्थायी तरीकों के बारे में बताये जाएंगे

दुनिया की आबादी में स्थिरता लाने और जनता के बीच जागरूकता पैदा करने के लिए भारत सरकार और गुजरात सरकार द्वारा हर साल "विश्व जनसंख्या दिवस" ​​मनाया जाता है। जिसके भाग के रूप 27 जून से 10 जुलाई दरम्यान दाहोद जिला स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा पूरे पखवाड़े में जनजागरूकता एवं स्वास्थ्य उन्मुख कार्यक्रम आयोजित किये गये। अपर जिला स्वास्थ्य अधिकारी डा. आर डी पहाड़िया के नेतृत्व में ये कार्यक्रम आयोजित किए गए।
जनजागृति अंतर्गत दंपति संपर्क पखवाड़ा और जनसंख्या स्थिरता पखवाड़ा के तहत विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए गए। कार्यक्रम के बारे में स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं और आशा कार्यकर्ताओं द्वारा अपने-अपने क्षेत्रों में जागरूकता लाई गई। इसके साथ ही परिवार कल्याण प्रदर्शनों, जरूरतमंद लाभार्थियों को परिवार नियोजन की जानकारी, आईईसी द्वारा बैनर, पोस्टर और लोगो, स्लोगन, डिस्प्ले आदि का अच्छी तरह से प्रचार-प्रसार किया गया।
         उक्त अवधि के दौरान परिवार कल्याण के क्षेत्र में स्थायी संचालन में महिला ऑपरेशन 37  के अलावा कॉपर टी 1862 ऑपरेशन, कंडोम 1,2,20, ओरल पिल्स 1,36,860, ओरल पिल्स 14,019 अंतरा जैसे ऑपरेशन किए गए। 
इसके अलावा  11 जुलाई से 24 जुलाई तक, लक्षित दंपतियों  को परिवार कल्याण के स्थायी और गैर-स्थायी तरीकों जैसे पुरुष  नसबंदी, महिला नसबंदी, कॉपर-एक्सई / पीपीआईयूसीडी, ओरल पिल्स, छाया, अंतरा, गर्भनिरोधक आदि द्वारा संरक्षित कर छोटा परिवार, सुखी परिवार का ध्येय लक्ष्य में रखकर  जनसंख्या नियंत्रण तथा दो बच्चों के बीच दूरी बनाए रखने और मां और बच्चे के स्वास्थ्य में सुधार लाने के लिए परिवार कल्याण लक्षित सेवाएं प्रदान की जा रही हैं।
एक बेटी की नसबंदी करने वाले लाभार्थी को 6000 रुपये का राष्ट्रीय बचत प्रमाणपत्र दिया जाता है और दो बेटियों की नसबंदी करने वाले लाभार्थी को 5000 रुपये का राष्ट्रीय बचत प्रमाणपत्र दिया जाता है। पुरुष नसबंदी कराने वाले को 2000 एवं स्त्री नसबंदी कराने वाले को 1400 तथा  प्रसव के बाद 7 दिनों में स्थायी नसबंदी कराने वालों को 2200  रुपये की सहायता दी जाती है।
प्रसव के बाद 48 घंटे के भीतर पीपीआईयूसीडी पाने वालों को 300 रुपये की सहायता दी जाती है। इस वर्ष 11 जुलाई 2021 को विश्व जनसंख्या दिवस की थीम "आपदा की तैयारी में परिवार नियोजन, सक्षम राष्ट्र और पूर्ण परिवार जिम्मेदारी" जैसे कार्यक्र आयोजित किये गये। 
दाहोद जिले के जिला विकास अधिकारी  तेजस परमार एवं अपर जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. रमेश पहाड़िया ने विश्व जनसंख्या दिवस पखवाड़े के दौरान सभी लक्षित दंपति से परिवार के स्वास्थ्य और कल्याण के लिए परिवार कल्याण सेवाओं का लाभ उठाने की अपील की है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें