गुजरात : कोरोना काल में मुफ्त अनाज मिलने से नहीं हुई कोई परेशानीः राधाबेन

मुफ्त अनाज मिलने से राहत मिली

तालाबंदी के साथ शुरू हुए मुफ्त अनाज वितरण के कारण हमें किसी प्रकार की चिंता करने की जरूरत नहीं थी

 दाहोद तालुका के राणापुर खुर्द के भाभोर चुनियाभाई, पारगी लोबानभाई, खरोड गांव के नीनामा चतुरीबेन पिथाभाई और नीनामा बचूभाई सावसिगभाई, केवड़ राधाबेन महेशभाई ... इन सभी व्यक्तियों पर एक बड़े परिवार का भरण-पोषण करने की जवाबदारी और ये सब खेत मजदूरी सहित दैनिक मजदूरी , सफाई काम जैसे सीमित आय वाले हैं। परिवार के युवा सदस्य भी बड़े शहरों में काम करके या दैनिक मजदूरी  काम करके अपना जीवन यापन करते हैं। परिवार में अधिक सदस्य होने और सीमित आय होने के बावजूद इन परिवारों को लॉकडाउन के दौरान आर्थिक गतिविधियों में मंदी के परिणामस्वरूप राशन, खाने-पीने के खर्च की चिंता नहीं करनी पड़ी।
लोबनभाई ने कहा कि कोरोना के कारण लॉकडाउन हुआ, बाहर काम मिलना बंद हो गया और दो टाइम के भोजन के लिए  बचत का उपयोग करने के लिए मजबूर होना पड़ा। दाहोद नगर पालिका में दिहाड़ी सफाई का काम करने वाली केवड़ राधाबेन ने बताया कि उनके तीन पुत्रों को कोरोना काल में फुटकर मजदूरी नहीं मिल पा रही थी और घर चलाने के लिए उनकी 7,000 रुपये की मासिक आय कम पड़ रही थी। इसके बाद प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत प्रत‌ि माह प्रति व्यक्ति 5 किलो अनाज का मुफ्त वितरण शुरू हुआ और राहत मिली। 
भाभोर चुनियाभाई का कहना है कि उनके परिवार में 9 सदस्य हैं और उन्हें कोरोना संकट के दौरान लगातार 8 महीने मुफ्त भोजन मिला है, इसलिए संक्रमण के खतरे के कारण काम खोजने के लिए बाहर जाने की जरूरत नहीं है। इस वितरण के तहत प्रति माह 50 किलो खाद्यान्न प्राप्त करने वाली निनामा चतुरीबेन ने खाद्यान्न की गुणवत्ता और मात्रा पर संतोष व्यक्त किया। इन सभी लाभार्थियों को खाद्यान्न के अलावा परिवार के सदस्यों की संख्या के अनुसार प्रति व्यक्ति 3.5 किलो गेहूं और 1.5 किलो चावल के हिसाब से 30 से 40 किलो खाद्यान्न प्रतिमाह मुफ्त दिया जा रहा है।  इन लाभार्थियों के संतुष्ट चेहरों से यह स्पष्ट है कि कमजोर, जरूरतमंद परिवारों के लिए खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करने और एक मजबूत समर्थन प्रदान करने के सरकार के प्रयास लॉकडाउन के दौरान और पूरी क्षमता से आर्थिक गतिविधियों को फिर से शुरू करने के दौरान सफल रहे हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें