गुजरात : संत सदाराम बापू ने अपने भजन-सत्संग से लाखों लोगों को बनाया व्यसन मुक्त : मुख्यमंत्री

बनासकांठा के श्रद्धेय संत पूज्य सदाराम बापू की 115वीं जयंती में मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल शामिल हुए।

मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल की प्रेरक उपस्थिति में दियोदर में मनाई गई पूज्य संत सदाराम बापू की 115वीं जयंती

बनासकांठा के श्रद्धेय संत पूज्य सदाराम बापू की 115वीं जयंती मंगलवार को दियोदर में मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल की अध्यक्षीय उपस्थिति में मनाई गई। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि पूज्य संत सदाराम बापू ने शिक्षा के विस्तार, व्यसन मुक्ति और हिंसा निवारण के अनेक सेवा कार्य किए हैं। पूज्य संत सदाराम बापू ने उनके भजन व सत्संग के जरिए लाखों लोगों को व्यसन मुक्त बनाया है। बापू का सादा-सरल जीवन ही उनका जीवन संदेश था। उन्होंने कहा कि लोगों की परेशानियों और पीड़ाओं को दूर करते-करते सादा जीवन जीकर वे इस भवसागर को पार कर गए। नशा व्यक्ति और परिवार को बर्बाद कर देता है, उस बात को बेहतर तरीके से समझकर किसी एक जाति के लिए नहीं बल्कि संपूर्ण समाज के विकास के लिए पूज्य बापू ने काम किया है। उन्होंने अनुरोध किया कि ऐसे संत के जीवन से प्रेरणा लेकर हर कोई अपने जीवन में आगे बढ़े। श्री पटेल ने आगे कहा कि पौधे में ईश्वर की भांति व्यक्ति में भी रणछोड़ का दर्शन कर समाज के विकास के कार्यों की प्रेरणा उन्होंने दी थी। 
मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे लोकप्रिय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ‘आत्मनिर्भर भारत’ का नारा देकर हमें नई दिशा दी है, तब उनके द्वारा बताए मार्ग पर चलकर गुजरात को आत्मनिर्भर बनाएं। 
शिक्षा राज्य मंत्री कीर्तिसिंह वाघेला ने कहा कि पूज्य संत सदाराम बापा आज भले ही आज हमारे बीच नहीं हैं, लेकिन उनका उपदेश और आशीर्वाद सदैव हमारे साथ रहेगा। बापा ने भजन और भक्ति के साथ-साथ समाज सुधार का विराट कार्य पूरे उत्तर गुजरात में किया है। उन्होंने अपने जीवनकाल के सात दशक से भी अधिक वर्ष शिक्षा के अभाव के चलते समाज में व्याप्त व्यसन की बुराई को दूर करने में खपा दिए थे।  
मुख्यमंत्री को स्मृति चिन्ह अर्पण करते हुए
गुजरात क्षत्रिय ठाकोर सेना के अध्यक्ष अल्पेश ठाकोर ने कहा कि हमारे संत सदाराम बापा से व्यसन मुक्ति अभियान चलाने की प्रेरणा और सभी के कल्याण का शुभाषीश मिलता है। उन्होंने कहा कि, “बापा के चरणों में प्रार्थना करता हूं कि नशा मुक्ति के अलावा धर्म और भाईचारे की भावना के जरिए सभी समाज एक बनकर रहें।” ठाकोर ने कहा कि वाव और भाभर क्षेत्र के लिए मुख्यमंत्री ने लगभग 100 करोड़ रुपए की भारी धनराशि के कार्यों को मंजूरी दी है। उन्होंने खेती के लिए अमृत के समान नर्मदा मैया का नीर इस धरा तक पहुंचाने की मंजूरी देने के लिए मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने दीप प्रज्वलित कर पूज्य संत सदाराम बापू की आरती में शामिल हुए। कार्यक्रम में प्रदेश भाजपा महामंत्री रजनीभाई पटेल, बनास डेयरी के चेयरमैन शंकरभाई चौधरी, पूर्व मंत्री धर्मेंद्रसिंह जाडेजा, केशाजी चौहान, बनास बैंक के चेयरमैन अणदाभाई पटेल, अग्रणी सर्वश्री गुमानसिंह चौहान, नंदाजी ठाकोर, सुरेशभाई शाह, नौकाबेन प्रजापति, पीराजी ठाकोर, दशरथजी ठाकोर सहित ठाकोर समाज के कई अग्रणी, कलक्टर आनंद पटेल, जिला विकास अधिकारी स्वप्निल खरे और बड़ी संख्या में आम लोग उपस्थित थे। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें