गुजरातः दाहोद में एक सप्ताह में कोरोना मरीजों के लिए 300 बेड बढ़ाए जाएंगे

मुख्यमंत्री ने दाहोद में कोरोना की स्थिति को लेकर समीक्षा बैठक की

विवाह समारोह में तय संख्या से अधिक लोग पाए जाएंगे तो जिम्मेदार पुलिस अधिकारी के खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी

 मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री ने दाहोद में कोरोना की स्थिति को लेकर बुलाई समीक्षा बैठक
कोरोना की परिस्थिति से निपटने के लिए स्वास्थ्य तंत्र की तैयारियों का जायजा लेने मंगलवार को दाहोद पहुंचे मुख्यमंत्री विजय रूपाणी और उप मुख्यमंत्री नितिनभाई पटेल ने जिला प्रशासन के साथ समीक्षा बैठक में विस्तृत चर्चा कर आगामी सप्ताह में दाहोद में अतिरिक्त 300 बेड की सुविधा उपलब्ध कराने की घोषणा की है। मुख्यमंत्री ने कहा कि दाहोद में जायडस हॉस्पिटल में 200 और जिले में 100 अतिरिक्त बेड सभी सुविधाओं के साथ लगाए जाएंगे। इस तरह अगले एक सप्ताह में दाहोद में कोरोना मरीजों के उपचार के लिए अतिरिक्त 300 बेड उपलब्ध होंगे। 
श्री रूपाणी ने आगे कहा कि पूरे राज्य में 25, 26 और 27 अप्रैल को बड़े पैमाने पर विवाह समारोह आयोजित होने जा रहे हैं, जिसके मद्देनजर संबंधित क्षेत्रों के पुलिस स्टेशन को कोविड की मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) का पालन सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। यदि विवाह समारोह में तय संख्या से अधिक लोग पाए जाएंगे तो जिम्मेदार पुलिस अधिकारी के खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि दाहोद जिले में जिन क्षेत्रों से कोरोना के ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं, वहां टेस्ट, ट्रेसिंग और आइसोलेट के आधार पर जन सहयोग से गहन स्वास्थ्य जांच की मुहिम चलाई जाएगी और मरीजों को दवाइयों की किट भी प्रदान की जाएगी। उन्होंने कहा कि कंटेन्मेंट जोन के नियमों का सख्ती से पालन सुनिश्चित करने के लिए स्थानीय प्रशासन को निर्देश दिए गए हैं।
 मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने यह भी कहा कि दाहोद के ग्रामीण क्षेत्रों में भी कोरोना के मामले बड़ी संख्या में सामने आ रहे हैं। इसलिए तंत्र को यह निर्देश दिए गए हैं कि वह ग्रामीण स्तर पर सेवा प्रदान करने वाले डॉक्टरों को भी कोविड हेल्थ सेंटर शुरू करने की दिशा में प्रोत्साहित करने को कार्य करे। उन्होंने दाहोद के नागरिकों से अनावश्यक रूप से घर से बाहर नहीं निकलने और समय पर वैक्सीन लगवाने की अपील भी की। उन्होंने जनप्रतिनिधियों से भी जनस्वास्थ्य की सुरक्षा के अभियान में जुड़ने का आह्वान किया। रूपाणी ने जिले में कोरोना वायरस की स्थिति के संबंध में उच्च अधिकारियों के साथ विस्तार से समीक्षा की। जिले में डेडिकेटेड हॉस्पिटल, बेड की उपलब्धता, रेमडेसिविर इंजेक्शन, एंटीजेन टेस्ट किट और लॉजिस्टिक सहित तमाम मामलों के संबंध में मुख्यमंत्री को विस्तृत जानकारी से अवगत कराया गया। जिसके अनुसार दाहोद जिले में अब तक कुल साढ़े तीन लाख से अधिक कोविड टेस्ट किए गए हैं। वहीं, पॉजिटिविटी रेट अर्थात परीक्षण के दौरान लोगों के पॉजिटिव निकलने की दर 1.10 फीसदी है। जिले में कोविड मरीजों का डिस्चार्ज रेट 89.09 फीसदी है। जबकि डबलिंग रेट यानी कोरोना के मामले दोगुने होने की अवधि 153 दिन है और कोरोना के मामलों में मृत्यु दर (केस फैटलिटी रेट) 0.16 फीसदी है। इसके अलावा, कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग का अनुपात भी राज्य में सर्वाधिक में से एक है। जिले में कोविड की चक्रवृद्धि दैनिक वृद्धि दर 1.47 फीसदी रही है। प्रति 10 लाख व्यक्ति पर दैनिक आधार पर 1172 लोगों का टेस्ट हो रहा है। 
 कोविड की दूसरी लहर में संक्रमण की रोकथाम के लिए दाहोद जिला पुलिस ने अनिवार्य रूप से मास्क पहनने के लिए अभियान चलाया है और 99931 लोगों को निःशुल्क मास्क वितरित किया है। टीकाकरण अभियान के तहत जिले के 272166 लोगों को वैक्सीन की पहली खुराक दी जा चुकी है जबकि उनमें से 68416 लोगों को वैक्सीन की दूसरी खुराक भी दी जा चुकी है। उप मुख्यमंत्री नितिनभाई पटेल ने डोर-टू-डोर सर्विलांस को बढ़ाकर कोविड के मरीजों को समय पर ट्रेस करने के निर्देश स्वास्थ्य विभाग को दिए। उन्होंने कहा कि दाहोद जिले की आवश्यकता के अनुसार स्वास्थ्य सुविधाएं और उपकरण मुहैया कराए जाएंगे। उन्होंने बैठक में जायडस हॉस्पिटल में सिटी स्कैन सुविधा तत्काल शुरू करने के निर्देश भी दिए हैं।  

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें