बॉलीवुड : हिंदी फिल्मों का बुरा दौर यथावत, 'लाल सिंह चड्ढा' और 'रक्षाबंधन' के एडवांस बुकिंग के आंकड़ों ने बढ़ाई चिंता

इन दोनों फिल्मों की एडवांस बुकिंग कोरोना काल में आने वाली फिल्मों से भी कम

आज आमिर खान की बहुप्रतीक्षित फिल्म 'लाल सिंह चड्ढा' और अक्षय कुमार की 'रक्षाबंधन' दोनों रिलीज हो रही हैं। इन दोनों ही फिल्मों से बॉलीवुड और इनके-इनके कलाकारों को बहुत उम्मीदें है पर इन फिल्मों को उम्मीद से कम अग्रिम बुकिंग मिली, इसलिए अब पूरे उद्योग में हड़कंप मचा हुआ है। अब चर्चा है कि सिर्फ वर्ड ऑफ माउथ पब्लिसिटी और पांच दिन तक चलने वाले वीकेंड पर हॉलिडे क्राउड ही इन फिल्मों को अच्छी स्थिति में ला सकते हैं।
दोनों फिल्मों की एडवांस बुकिंग के आंकड़े निराशाजनक 
आपको बता दें कि एक रिपोर्ट के मुताबिक आमिर खान की लाल सिंह चड्ढा की एडवांस बुकिंग बमुश्किल 57 हजार टिकटों की है। यह कार्तिक आर्यन की भोलाभुलैया टू की आधी बुकिंग है। इसी तरह अक्षय कुमार की रक्षाबंधन की एडवांस बुकिंग बमुश्किल 35 हजार टिकटों की है। अक्षय की पिछली फिल्म सम्राट पृथ्वीराज बड़ी फ्लॉप साबित हुई थी। लेकिन, रक्षाबंधन की एडवांस बुकिंग उससे भी दस फीसदी कम है। ट्रेड सर्किलों का मानना है कि अगर कोई बड़ा चमत्कार नहीं हुआ तो लाल सिंह चड्ढा करीब 15 करोड़ और रक्षा बंधन करीब 10 करोड़ के आसपास खुलने की संभावना है।
बॉलीवुड को आत्ममंथन की आवश्यकता :  ट्रेड एनालिस्ट
चौंकाने वाली बात यह है कि बॉलीवुड की ये दो फिल्में मंधाता स्टार्स की फिल्में मिलाकर मुश्किल से 30 करोड़ की ओपनिंग कर पाती हैं। इसकी तुलना में पिछले साल जब अक्षय कुमार की सूर्यवंशी रिलीज हुई थी, तो देश के आधे थिएटर बंद थे और ज्यादातर राज्यों ने केवल 50 फीसदी ऑक्यूपेंसी की अनुमति दी थी, फिर भी यह पहले दिन 26 करोड़ रुपये का वुँपार हुआ था। ट्रेड एनालिस्ट तरण आदर्श ने सोशल मीडिया पर साफ कहा कि झूठी गुलाबी तस्वीरें खींचना बंद हो जाना चाहिए। इन दोनों फिल्मों की एडवांस बुकिंग उम्मीद से काफी कम है। बॉलीवुड को आत्ममंथन करने की जरूरत है। फिल्में नहीं चलने पर झूठे बहाने बंद होने चाहिए। हालांकि, उन्होंने कहा कि दोनों फिल्में स्पॉट बुकिंग, वॉक इन ऑडियंस और वर्ड ऑफ माउथ पब्लिसिटी के साथ अपनी स्थिति में सुधार कर सकती हैं।
लाल सिंह चड्ढा पर बहिष्कार का असर साफ देखा जा सकता है
एक अन्य ट्रेड एनालिस्ट ने कहा कि इस बार पांच दिन लंबे वीकेंड के बावजूद स्थिति चिंताजनक है। हालांकि, उन्होंने कहा कि अक्षय कुमार की फिल्में आमतौर पर वर्ड ऑफ माउथ पब्लिसिटी से बेहतर हो जाती हैं। उम्मीद है कि रक्षा बंधन में पारिवारिक दर्शकों के माध्यम से ऐसा चमत्कार होगा। दूसरी ओर, विश्लेषकों ने स्वीकार किया कि लाल सिंह चड्ढा के बहिष्कार के आह्वान का असर साफ साफ देखा जा सकता है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें