भुज : डायालिसिस करवा कर अकेले स्कूटर पर लौट रहे बुजुर्ग की रहदारियों ने ऐसे की मदद

प्रतिकात्मक तस्वीर (Photo : IANS)

108 एम्ब्यूलंस को पहुंचने में देरी की सूचना मिलने पर स्वयं लोगों ने प्राथमिक आरोग्य केंद्र पहुंचाया

गुजरात के भुज से एक अच्छी खबर आ रही है। कोरोना महामारी के दौर में नकारात्मक खबरों की बाढ़ के बीच दिल का सुकून देने वाली खबर है। हुआ यूं कि एक मुस्लिम बुजुर्ग अपना डायालिसिस करवाने खुद अस्पताल गये हुए थे। तभी शहर के रावलावाडी इलाके में जब वे दुपहिया वाहन से लौट रहे थे तो उनकी तबियत बिगड़ी और वे सड़क के किनारे फुटपाथ पर गिर गये। 
बुजुर्ग के वाहन से गिरने की आवाज सुनकर राहदारी घटना स्थल पर इकठ्ठा हो गये। भीड़ में एक पूजा-पाठ करने वाले हिंदू सज्जन थे उन्होंने बिना समय गंवाये बुजुर्ग को सीने पर पप्पिंग करना शुरु कर दिया। एक दूसरे राहगीर ने पास से पानी लाकर बुजुर्ग के चेहरे पर छांटा। सौभाग्य से बुजुर्ग की तबियत सुधरी और उन्होंने आंखें खोली। 
प्रतिकात्मक तस्वीर (Photo Credit : dharmanita.com)
इसी दौरान किसी ने उनके जेब से पहचान पत्र और फोन निकालकर उनके परिजनों को सूचित किया। एक युवक ने 108 एम्ब्यूलेंस का संपर्क किया लेकिन सूचना मिली ही एम्ब्यूलेंस को पहुंचने में एक घंटे का समय लग जायेगा। ऐसे में लोगों ने खुद ही बुजुर्ग को पास के आरोग्य केंद्र में पहुंचाने की व्यवस्था कर दी। 
गनीमत है लोगों की समय पर मिली मदद से बुजुर्ग की जान बच गई। बता दें कि पूरे प्रदेश में रात 9 बजे से सुबह 6 बजे तक कर्फ्यू लदा हुआ है और ये घटना सुबह 10 बजे के आसपास की थी। अलबत्ता यह भी तथ्य सामने आया है कि डायालिसिस करवा कर बुजुर्ग अकेले लौट रहे थे। उन्हें इस प्रकार इलाज के लिये अकेले नहीं जाना चाहिये था। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें