राजकोट : एयरपोर्ट के रनवे में रिक्शा घुसने की गूंज दिल्ली तक पहुंची, सीआईएसएफ की टीम एयरपोर्ट पर जांच शुरु की

सीसीटीवी और सुरक्षा के मामले में करेगी जांच

राजकोट : एयरपोर्ट के रनवे में रिक्शा घुसने की गूंज दिल्ली तक पहुंची, सीआईएसएफ की टीम एयरपोर्ट पर जांच शुरु की

हवाईअड्डे की सुरक्षा में एक बड़ी चूक उस समय सामने आई है जब एक रिक्शा चालक राजकोट हवाईअड्डे के हेलीपैड पर गेट तोड़कर पहुंच गया। इस घटना की गूंज दिल्ली तक पहुंच गई है। मंगलवार को दिल्ली से सीआईएसएफ निदेशक और संयुक्त निदेशक स्तर के अधिकारी जांच के लिए राजकोट एयरपोर्ट पहुंचे। ये आला अधिकारी दो दिनों तक जांच करेंगे। जिसकी रिपोर्ट एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया को सौंपी जाएगी। जिसके आधार पर जिम्मेदारों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

एयरपोर्ट पर चेकिंग का दौर

राजकोट हवाई अड्डे पर सुरक्षा चूक की उच्च स्तरीय जांच के आदेश के बाद सीआईएसएफ निदेशक और संयुक्त निदेशक राजकोट हवाईअड्डे पहुंचे और सुरक्षा जांच शुरू कर दी गई है। दो दिनों तक चलने वाली इस पड़ताल में रिक्शा चालक प्रतिबंधित क्षेत्र में कैसे पहुंचा, उसकी मंशा क्या थी और क्या कारण थे। उस दिशा में जांच की जा रही है।

इस घटना की रिपोर्ट तैयार कर एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया को सौंपी जाएगी

इसके अलावा घटनास्थल की सीसीटीवी फुटेज और घटना के समय कहां और कितने सुरक्षाकर्मी तैनात थे, इसकी भी जानकारी ली। इस दिशा में जांच की गई है। इस घटना की रिपोर्ट तैयार कर एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया को सौंपी जाएगी और इसके आधार पर कार्रवाई किए जाने के संकेत हैं। सूत्रों के मुताबिक इस रिपोर्ट के आधार पर सीआईएसएफ और एयरपोर्ट अथॉरिटी के अधिकारियों पर भी कार्रवाई की जा सकती है।

एयरपोर्ट पर सुरक्षा बढ़ा दी गई है

पिछले रविवार की घटना के बाद जब एक रिक्शा चालक बैरिकेड तोड़कर रनवे में घुस गया, तो अब एयरपोर्ट अथॉरिटी की नींद खुल गई है, एयरपोर्ट के एंट्री गेट से प्रतिबंधित क्षेत्र तक बैरिकेड्स लगा दिए गए हैं। इतना ही नहीं रनवे के पास वीआईपी गेट के पास तिपहिया और चौपहिया वाहनों के प्रवेश पर रोक लगा दी गई है।

पहले सुरक्षा के लिहाज से कुछ प्रस्ताव आए थे, जिन्हें मंजूरी नहीं मिली

उधर, एयरपोर्ट सूत्रों के मुताबिक सीआईएसएफ पिछले कुछ समय से सुरक्षा के लिहाज से एयरपोर्ट के गेट पर कुछ इंतजाम करने का प्रस्ताव दे रहा था। जो प्रस्ताव स्वीकृत नहीं हुआ था। जिसमें गेट पर झीगझेग सिस्टम लागू करने, स्पीड ब्रेकर तैयार करने, बाहर से आने वाली कारों या रिक्शों की स्वचालित जांच आदि जैसे कुछ प्रस्ताव नहीं रखे गए थे। हवाईअड्डे पर जिम्मेदार अधिकारी इन मामलों को सीआईएसएफ के उच्चाधिकारियों के समक्ष भी रखेंगे।

Tags: Rajkot

Related Posts