राजकोट: बच्चे के इलाज के लिए अपनी सोने की अंगूठी भी कर दी दान, लोगों से छुपाई अपनी पहचान

राजकोट: बच्चे के इलाज के लिए अपनी सोने की अंगूठी भी कर दी दान, लोगों से छुपाई अपनी पहचान

सभी वर्ग के लोग कर रहे है अपनी तरफ से पूरा योगदान, 1 साल के पहले करना है इलाज

राजकोट में एक तीन महीने के बच्चे धैर्यराज को बीमारी के इलाज के लिए 16 करोड़ रुपये वाले एक इंजेक्शन की जरूरत है। बच्चे के पिता ने लोगों से मदद की अपील की है और अब गुजरात के लोग धैर्यराज की मदद करने के लिए सामने आए हैं। लोग अलग-अलग तरीकों से धैर्यराज की मदद कर रहे हैं। अब तक, गुजरात के गायक, आम जनता, साधु-संतों सहित बहुत से लोगों ने धैर्यराज की मदद की है। आपको बता दें कि रवीद्र जडेजा की पत्नी रीवाबा जडेजा भी इस बच्चे को बचाने मैदान में आ गई हैं और उन्होंने लोगों से धैर्यराज की मदद करने की अपील भी की है। कुछ दिनों पहले राजदीप सिंह रिबडा ने भी सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर किया जिसमें वो बच्चे को गोद में लिए हुए लोगों से धैर्यराज की मदद करने की अपील कर रहे थे।
राजकोट के पेट्रोल पंप के मालिक ने की पूरा मुनाफा देने की घोषणा 
आपको बता दें कि राजकोट में गंगोत्री ग्रुप भी धैर्यराज की मदद के लिए चंदा इकट्ठा कर रहा है।  गंगोत्री ग्रुप के सदस्यों द्वारा सड़क पर खड़े होकर बच्चे के लिए चंदा इकट्ठा किया जा रहा है। इसके अलावा, राजकोट के एक पेट्रोल पंप के मालिक ने भी 18 मार्च तक पेट्रोल और डीजल की बिक्री पर मिलने वाले लाभ को धैर्यराज के इलाज के लिए देने का फैसला किया है। इसके अलावा, राजकोट में जब करणी सेना द्वारा चंदा इकट्ठा किया जा रहा था, तब एक व्यक्ति ने उदारता दिखाते हुए अपनी सोने की अंगूठी उतार कर दान कर दी। उस व्यक्ति ने करणी सेना से उसकी पहचान और वाहन के नंबर को गुप्त रखने की अपील की। हालांकि एक स्वयंसेवक द्वारा इस बात को सोशल मीडिया पर पोस्ट किया गया  तब से ये वायरल हो गया।

तीन माह के बच्चे के लिए मेयर ने भी जमा किए पैसे
राजकोट नगर निगम के मेयर डॉ प्रदीप दवे भी लोगों से दान मांगने के लिए अपने नगरसेवकों के साथ सड़कों पर उतर आए हैं। हर समाज के लोग तीन महीने के बच्चे की जान बचाने के लिए साथ आ रहे हैं और बच्चे का इलाज करने के लिए जितना हो सके उतना दान कर रहे है। धैर्यराज का इलाज करने के लिए एक वर्ष का समय है और बीमारी के लिए इंजेक्शन अमेरिका से मंगवाना पड़ रहा है, जिसकी कीमत 16 करोड़ रुपए है। लेकिन बच्चे का परिवार बच्चे के इलाज और इलाज के लिए इंजेक्शन का खर्च वहन करने में आर्थिक रूप से सक्षम नहीं हैं। इसलिए अब लोग इस बच्चे की मदद भी कर रहे हैं।
Tags: 0

Related Posts