जब मृत्युशैया पर सो रहे पति के स्पर्म के लिए पत्नी ने लगाई कोर्ट में गुहार

(Photo: gujarathighcourt.nic.in)

अस्पताल ने दिये आईवीएफ़ प्रोसीजर शुरू करने के आदेश

गुजरात की हाईकोर्ट में एक महिला ने एक अजीब गुहार लगाई है। साल 2020 में शादी वडोदरा के युवक से शादी करने वाली युवती वडोदरा रहती थी। शादी के 4 महीने बाद उन्हें सूचना मिली की उसके ससुर को हार्ट अटैक आ गया है। जिसके चलते वह वापिस लौटी। वडोदरा वापिस आने पर युवती का पति कोरोना संक्रमित हो गई थी। संक्रमित होने के बाद पति की हालत नाजुक हो गई थी। 
पिछले दो महीनों से युवती का पति एक प्राइवेट अस्पताल में वेंटिलेटर पर है। डॉक्टरों ने कहा कि उनकी हालत काफी गंभीर हो गई है और अब वह मात्र चंद घंटो  के ही मेहमान है। अपने पति को खोने के डर से उसकी पत्नी ने हाईकोर्ट का रुख किया। पत्नी ने हाईकोर्ट में कहा कि उसे उसके पति का स्पर्म चाहिए। जिससे कि वह उसके बच्चे की माँ बन सके। हाईकोर्ट ने अपनी सारी सुनवाई रोककर इस मामले को सुना और इसके बारे में तुरंत ही निर्णय देते हुए स्टर्लिंग हॉस्पिटल को आईवीएफ़ प्रोसीजर का आदेश दिया था। 
युवती ने कहा कि वह अपने पति के अंश से ही माता बनना चाहती है। इसलिए वह अपने पति का स्पर्म ही चाहती है। डॉक्टरों ने कहा था कि यह एक लीगल केस है, जिसके कारण वह स्पर्म नहीं दे सकते। हालांकि अब कोर्ट के आदेश के बाद अस्पताल ने आईवीएफ़ प्रोसीजर की अनुमति दे दी है। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें