दादा साहब फाल्के पुरस्कार के लिए रजनीकांत को उप-राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री ने दी बधाई

(Photo : IANS)

प्रकाश जावडेकर, कमल हसन और अन्य कइयों ने भी दिये बधाई संदेश

नई दिल्ली, 1 अप्रैल (आईएएनएस)| केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावडेकर ने गुरुवार को सुपरस्टार रजनीकांत को दादा साहब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किए जाने की घोषणा की है। जावड़ेकर द्वारा ट्विटर पर यह घोषणा करने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रजनीकांत को ट्वीट करके बधाई दी। इसके बाद उप-राष्ट्रपति एम.वेंकैया नायडू ने भी ट्वीट किया।
मोदी ने लिखा, "अभिनेता रजनीकांत को प्रतिष्ठित दादासाहेब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किए जाने पर हार्दिक बधाई। पिछले कई वर्षों से इस बहुमुखी अभिनेता ने मानवीय अनुभव और भावनाओं के असंख्य ²श्यों को दिखाते हुए लोगों को लुभाया है। प्रसिद्ध अभिनेता को उनके भविष्य के लिए मेरी शुभकामनाएं।" उन्होंने आगे लिखा, "कई पीढ़ियों के बीच लोकप्रिय, विभिन्न भूमिकाएं निभाने वाली एक शानदार शख्सियत हैं रजनीकांत जी। यह एक बहुत खुशी की बात है कि थलाइवर को दादा साहब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित करने के लिए चुना गया है। उन्होंने ढेर सारी बधाईयां।"
तमिल फिल्म इंडस्ट्री में रजनीकांत को तलाईवर या 'स्टाइल मन्नान' कहा जाता है। जावडेकर ने यह घोषणा करते हुए रजनीकांत को भारतीय सिनेमा के इतिहास में सबसे महान अभिनेताओं में से एक बताया। उन्होंने अभिनेता की एक फोटो शेयर करते हुए लिखा, "साल 2020 के लिए दादा साहब फाल्के पुरस्कार की घोषणा करते हुए बहुत खुश हूं कि इस साल यह भारतीय सिनेमा के इतिहास में सबसे महान अभिनेताओं में से एक रजनीकांत जी को उनके अभिनय, निर्माण और पटकथा लेखन के तौर पर दिए गए योगदान के लिए दिया जाएगा। मैं जूरी के सभी सदस्यों आशा भोंसले, सुभाष घई, मोहनलाल और बिस्वजीत चटर्जी को धन्यवाद देता हूं।"
भारत में सबसे लोकप्रिय सितारों में से एक रजनीकांत को भारत सरकार द्वारा 2000 में पद्म भूषण और 2016 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया जा चुका है। रजनीकांत ने तमिल सिनेमा में 'अपूर्व रागंगल' से डेब्यू किया था। उनकी कई हिट फिल्मों में 'बाशा', 'शिवाजी' और 'एंथिरन' जैसी फिल्में हैं। वे अपने प्रशंसकों के बीच थलाइवर (नेता) के रूप में जाने जाते हैं।
बता दें कि दादा साहेब फाल्के पुरस्कार सिनेमा जगत में भारत में दिया जाने वाला सर्वोच्च सम्मान है। यह भारत सरकार के सूचना और प्रसारण मंत्रालय के फिल्म समारोह निदेशालय द्वारा राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों के साथ दिया जाता है। यह पुरस्कार पहली बार अभिनेत्री देविका रानी को दिया गया था। वहीं हाल के वर्षो में यह पुरस्कार पाने वालों में अमिताभ बच्चन, विनोद खन्ना, फिल्म निर्माता के. विश्वनाथ और मनोज कुमार शामिल हैं। दादा साहेब फाल्के पुरस्कार जूरी की बात करें तो इसमें मलयालम सुपरस्टार मोहनलाल और तमिल संगीत संगीतकार और गायक शंकर महादेवन शामिल हैं। इसके अलावा दिग्गज गायिका आशा भोसले और फिल्म निर्माता सुभाष घई हैं।
अभिनेता से नेता बने कमल हासन ने भी इस पुरस्कार के लिए रजनीकांत को बधाई दी। वहीं इस पुरस्कार के लिए उनके नाम की घोषणा होते ही तमिलनाडु के गांव-शहरों में लोग खुशी से झूम उठे। लोग सड़कों पर उतर आए और सैकड़ों लोग पोएस गार्डन स्थित उनके निवास पर पहुंच गए। सलेम में लोगों ने मिठाईयां बांटी और आतिशबाजी की। सलेम की एक गृहिणी मनोनमनी जी ने आईएएनएस को बताया, "रजनी इस पुरस्कार के हकदार हैं। वह भारतीय सिनेमा के सबसे महान अभिनेता हैं और रजनी के यह अवॉर्ड जीतने के बाद तो यह पुरस्कार महान हो गया है।"
हालांकि सूचना और प्रसारण मंत्री से जब पूछा गया कि क्या यह पुरस्कार रजनीकांत को तमिलनाडु चुनावों को प्रभावित करने के लिए दिया गया था, तो जावडेकर ने कहा, "यह किसी भी तरह से तमिलनाडु चुनाव से संबंधित नहीं है।" इस घोषणा के बाद से ही राजनीतिक नेताओं, अभिनेताओं, निर्देशकों और सामाजिक कार्यकर्ताओं की ओर से बधाई संदेशों की बाढ़ आ गई है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें