वड़ोदरा : किसी को अपना क्रेडिट कार्ड या उसकी जानकारी देने से पहले सौ बार सोचें, वरना इस अधिकारी की तरह पछताना पड़ेगा

एक अधिकारी को विश्वास में लेकर दो लोगों ने क्रेडिट कार्ड से उड़ाए 5 लाख रुपये, इस तरह सामने आया मामला

राज्य में ठगी के मामले रुकने का नाम नहीं ले रहे हैं। आये दिन कोई न कोई मामला सामने आ ही जाता है। अब वडोदरा शहर के छानी इलाके में रहने वाले एक अधिकारी का क्रेडिट कार्ड लेकर उसके नाम से 4 लाख 91 हजार रुपये का लेन-देन कर धोखाधड़ी करने का मामला साइबर क्राइम थाने में दर्ज किया गया है।

क्या है पूरा मामला 


मामले में मिली जानकारी के अनुसार वडोदरा के छानी इलाके की योगीनगर बस्ती में रहने वाले बच्चूसिंह किशोरलाल कराडम शहर के प्रतापनगर रेलवे के डीआरएम कार्यालय में सेक्शन इंजीनियर के पद पर कार्यरत हैं। 55 वर्षीय बच्चूसिंह ने पिछले अप्रैल में परिचित काजल दर्जी और क्रुणाल पटेल से आईसीआईसीआई बैंक का क्रेडिट कार्ड लिया था। काजल दर्जी और क्रुणाल पटेल ने बच्चू भाई से कार्ड चालू कराने के लिए क्रेडिट कार्ड ले लिया।

मोबाइल में आए मैसेज की डिटेल मांगी


कुछ दिनों बाद काजल और कुणाल ने बच्चूसिंह को फोन किया और कार्ड को सक्रिय करने के लिए उसके मोबाइल पर आए संदेशों का ब्योरा मांगा। जिसे बच्चूसिंह ने उन्हें फॉरवर्ड कर दिया। इस बीच, दो महीने बाद, उन्हें बैंक से फोन आया कि उनके क्रेडिट कार्ड का बिल बकाया है। जब उन्होंने बैंक को बताया कि उन्होंने कोई खरीददारी नहीं की तो इसके बाद बैंक ने मुंबई से बच्चूसिंह को दोबारा बुलाया और बताया कि उनका 4 लाख 91 हजार का बिल बकाया है।

धोखाधड़ी की शिकायत दर्ज कराई


इसके बाद बच्चूसिंह कुणाल और काजल के पास गए और उनका क्रेडिट कार्ड वापस मांगा और उन्हें बिल के बारे में बताया। तो क्रुणाल ने बताया कि उन्होंने इस क्रेडिट कार्ड से 4 लाख 91 हजार का ट्रांजैक्शन किया है। साथ ही क्रुणाल ने क्रेडिट कार्ड में अपना नंबर भी दर्ज कराया था। तो इस मामले में बच्चूसिंह ने साइबर क्राइम थाने में क्रुणाल और काजल दर्जी के खिलाफ धोखाधड़ी की शिकायत दर्ज कराई है।

दोनों ने अधिकारी को धोखा दिया


उल्लेखनीय है कि, धोखाधड़ी से पहले, काजल दर्जी ने खुद को एक दलाल के रूप में पहचाना और क्रुनाल पटेल ने खुद को केपी फाइनेंस के मालिक के रूप में पहचाना। साथ ही बच्चूसिंह का 29 लाख का कर्ज दूसरे बैंक में ट्रांसफर कर दिया गया। इस प्रकार दोनों ने पहले विश्वास हासिल किया और फिर अधिकारी के साथ धोखाधड़ी किया।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें