गुजरात में 30 बांध ऐसे हैं जो 100 साल पुराने, सरकार ने बांध पुनर्वसन का बनाया है प्लान

‌उकाई बांध की फाइल तस्वीर

केंद्रीय जल शक्ति मंत्रालय की रिपोर्ट ने लोकसभा में पेश की एक रिपोर्ट, केंद्रीय जल आयोग के पास इन डैम के रखरखाव का काम

केंद्रीय जल शक्ति मंत्रालय ने लोकसभा में एक रिपोर्ट पेश की है जिसमें बताया गया है कि गुजरात में छोटे-बड़े मिलकर कुल 620 डैम हैं। इसमें महत्वपूर्ण बात यह है कि गुजरात में 30 जितने डैम ऐसे हैं जो एक सदी से भी ज्यादा पुराने हैं। हालाँकि एक सदी पुराना होने के बावजूद, ये सभी डैम आज भी मजबूत और सुरक्षित है. केंद्रीय जल आयोग द्वारा इन डैमो का रखरखाव और देखरेख किया जा रहा है।
केंद्रीय जल शक्ति मंत्रालय की रिपोर्ट के अनुसार, केंद्रीय जल आयोग देश में सभी डैमो का देखरेख और रखरखाव करता है। इतना ही नहीं, यह राष्ट्रीय रजिस्टर में डैमो के बारे में एक डेटाबेस भी रखता है।  वर्तमान में भारत में कुल 5746 छोटे और बड़े डैमो हैं। इसके अलावा, 411 डैमो अभी भी निर्माणाधीन हैं। विशेष रूप से, भारत में 100 से अधिक वर्षों के जीवनकाल के साथ 229 डैम हैं।  गुजरात में 30 ऐसे डैमो हैं जो सदी पार कर चुके हैं।  हालांकि राज्य सरकार ने यह नहीं कहा कि इन सभी डैमो में पानी की किल्लत है या निर्माण को लेकर खतरा है। आज भी ये डैम पानी स्टोर करने में सक्षम हैं।  इसके अलावा महाराष्ट्र में 62 और मध्य प्रदेश में 42 डैमो भी 100 साल पुराने हैं।
आपको बता दें कि डैमो के पुनर्वास और सुधार के लिए केंद्र सरकार को विश्व बैंक से शुरू करके अन्य देशों से धन प्राप्त होता है।  केंद्र सरकार ने डैमो के लिए एक सुधार परियोजना भी शुरू की है।  केंद्र ने विश्व बैंक के सहयोग से अप्रैल 2012 से मार्च 2021 तक डैम सुधार कार्यों का पहला चरण शुरू किया।  उस समय राज्यों में कुल 223 डैमो की समीक्षा की गई और जरुरी डैम पुनर्वास कार्य किए गए। अब इसका दूसरा चरण 12 अक्टूबर 2021से शुरू  है।  गुजरात समेत 19 राज्यों में 736 डैमो के सुधार पर काम  की अवधि 10 वर्ष है।  दुसरे चरण में, गुजरात ने सात पुराने डैमो सही किये है।  वर्तमान में गुजरात में कुल 12 बांधों का निर्माण प्रगति पर है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें