जिसने भारत को दिलाया विश्व कप, वो कभी डिप्रेशन में करना चाहता था आत्महत्या, जानिए इस क्रिकेटर की कहानी

(Photo Credit : sandesh.com)

भारत के लिए 46 वनडे और 13 टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेल चुके उथप्पा ने अपने जीवन और क्रिकेट को लेकर बड़ा बयान दिया

भारत की 2007 टी20 वर्ल्ड कप विजेता टीम के अहम सदस्य और आईपीएल 2021 में चेन्नई सुपर किंग्स का हिस्सा रहे रॉबिन उथप्पा ने अपने जीवन और क्रिकेट को लेकर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि वह अपने करियर में दो साल से उदास थे। इस दौरान उनके मन में अक्सर सुसाइड के ख्याल आते थे। भारत के लिए 46 वनडे और 13 टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेल चुके उथप्पा के लिए हालात इतने बुरे थे कि उथप्पा ने एक बार बालकनी से कूद कर आत्महत्या करने के बारे में भी सोचा था।
आपको बता दें कि साल 2020 में रॉबिन उथप्पा रॉयल राजस्थान का हिस्सा थे। इस बीच रॉयल राजस्थान के संस्थापक ने एक लाइव सेशन उन्हें 'माइंड बॉडी एंड सोल' में कहा। इस बारे में उथप्पा ने बताया "मुझे याद है कि यह 2009 से 2011 तक हो रहा था और मुझे इससे हर दिन निपटना पड़ता था। मैं उस समय क्रिकेट के बारे में सोच भी नहीं सकता।'
रॉबिन उथप्पा ने आगे कहा, "मैं सोच रहा था कि इस दिन को कैसे जीना है और तो और अब अगला दिन कैसा होगा! मेरे जीवन में क्या हो रहा है और मैं कहां जा रहा हूं, ये सब मेरे लिए बहुत कठिन रहा। क्रिकेट ने मेरे दिमाग से ये बातें निकाल दीं।  मैच से इतर दिनों या ऑफ सीजन में बड़ी दिक्कत होती थी.’ उथप्पा ने कहा, ‘मैं उन दिनों में इधर-उधर बैठकर यही सोचता रहता था कि मैं दौड़कर जाऊं और बालकनी से कूद जाऊं. लेकिन किसी चीज ने मुझे रोके रखा.’
आगे रॉबिन उथप्पा ने कहा कि उस समय उन्होंने डायरी लिखना शुरू किया था। उन्होंने कहा, 'मैंने एक आदमी के तौर पर खुद को समझाने की कोशिश की। उसके बाद मुझे बाहर से मदद मिली ताकि मैं अपनी जिंदगी में बदलाव ला सकूं।' इसके बाद वह दौर था जब ऑस्ट्रेलिया में भारत-ए की कप्तानी के बावजूद वह भारतीय टीम में नहीं चुने गए।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें