महिला के मृतदेह को अंतिम संस्कार के लिये लॉरी में ले जाना पड़ा!

(Photo Credit : youtube.com)

पार्थिव शरीर ले जाने के लिए एम्बुलेंस या शववाहिनी नहीं मिलने पर ये रास्ता चुना

राज्य में कोरोना ने हलचल मचा दी है। स्थानीय सरकार के चुनावों के बाद से कोरोना के सकारात्मक मामले लगातार बढ़ रहे हैं। कोरोना महामारी के बीच में वडोदरा से करुण दृश्य सामने आए हैं। जिसमें एक मृतक के परिवार के सदस्यों ने प्रशासन से एम्ब्युलेंस या शव वाहिनी की मांग की मांग की, लेकिन एम्ब्युलेंस नहीं मिलने पर परिवार के सदस्यों ने मृतक वृद्ध महिला के शरीर को एक लॉरी में डालकर अंतिम संस्कार के लिए मजबूर हुए।
रिपोर्ट के अनुसार, वडोदरा शहर के नगरवाड़ा सब्जी मंडी के पास रहने वाले एक परिवार में एक 66 वर्षीय व्यक्ति की प्राकृतिक मृत्यु हुई। परिवार के लोगों ने शव को अंतिम संस्कार के लिए श्मशान में ले जाने के लिए वड़ोदरा नगर निगम से एक एंबुलेंस की मांग की। वहां से सेवा नहीं मिलने पर मृतक वृद्ध महिला के परिवार के सदस्यों ने एम्बुलेंस और शव वाहिनी सेवा प्रदान करने वाली एजेंसी से संपर्क किया। अंत में थकहार के परिवार के सदस्य एक लौरी पर वृद्ध महिला के शव को लाद कर श्मशान तक लाने को मजबूर हुए।
आपको बता दें कि परिवार के लोग घर से डेढ़ किलोमीटर दूर श्मशान में वृद्ध महिला के शव को लारी ले गए और महिला का अंतिम संस्कार खसवाड़ी श्मशान में किया गया। महत्वपूर्ण बात यह है कि वडोदरा में दिन-प्रतिदिन कोरोना संक्रमण फैल रहा है और वडोदरा नगर निगम के स्वास्थ्य विभाग कोरोना के संचरण को रोकने के लिए हर संभव प्रयास कर रहा है। मुख्यमंत्री विजय रूपानी ने वडोदरा में स्थायी केंद्र स्थापित करने के भी निर्देश दिए हैं। वडोदरा में, कोरोना मामले के साथ साथ मरने वालों की संख्या भी बढ़ रही है। ऐसे में शमशान में भी अंतिम संस्कार के लिए इंतजार करना पड़ रहा है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें