सूरत : वेसू के इस पॉश अपार्टमेन्ट के निवासियों ने छुपाए कोविड पॉजिटिव मामले, प्रशासन की बिना जानकारी कराते रहे इलाज

स्वास्थ्य विभाग की टीम वेसू में कर रही जांच

वेसू की ड्रीम हेरिटेज बिल्डिंग के निवासियों की गंभीर लापरवाही

अपार्टमेंट में रहने वाले डॉक्टर के पास टेस्ट कराते थे 
सूरत शहर में कोरोना के संक्रमण को लेकर स्थानीय लोगों के मन में हैरान करने वाली बातें सामने आई हैं। वेसू इलाके के ड्रीम हेरिटेज अपार्टमेंट में कोरोना का केस छिपाने के मैसेज से मनपा टीम में हड़कंप मच गई है। स्वास्थ्य विभाग की टीम को जानकारी मिली है कि अपार्टमेंट में रहने वाले  डॉक्टर से व्यक्तिगत रूप से कोरोना की रिपोर्ट लोग करा रहे हैं। पता चला है कि भले ही वे पॉजिटिव आए, लेकिन उन्होंने इसकी सूचना प्रशासन को नहीं दी, जिससे नगर पालिका लापरवाही के मामले में जांच कराने के साथ अनुशासनात्मक कार्रवाई करने की तैयारी कर रही है।
सूरत का वेसू इलाका शहर के पॉश इलाकों में से एक है। भले ही सबसे ज्यादा पढ़े-लिखे लोग इस इलाके में रहते हों, लेकिन उन्होंने जिस तरह का कृत्य किया है, वह शहर में चर्चा का विषय बन गया है। स्वास्थ्य विभाग की टीम को पता चला कि स्थानीय लोगों द्वारा कोरोना के संक्रमण जैसी गंभीर बीमारी को भी छिपाने की कोशिश की गई थी, जिसके तुरंत बाद अपार्टमेंट में 18 लोगों का रिपोर्ट पॉजिटिव आया।   
वेसू की ड्रीम हेरिटेज बिल्डिंग के निवासी छिपा रहे थे कोरोना के आंकड़े
कोरोना संक्रमण को सात दिनों के लिए अनिवार्य होम क्वारंटाइन किया जाता है। जिससे बचने के लिए अपार्टमेन्ट के लोग चोरी छिपे टेस्ट करा रहे हैं। पॉजिटिव आये होने के बावजूद प्रशासन को इसकी जानकारी नही देते ऐसी सूचना मिली है।  स्वास्थ्य विभाग की एक टीम ने स्थिति की गंभीरता को देखते हुए तत्काल प्रभाव से पूरे अपार्टमेंट की जांच शुरू कर दी है।
नगर पालिका के सहायक स्वास्थ्य आयुक्त डॉ. आशीष नायक ने कहा कि ड्रीम हेरिटेज बिल्डिंग के निवासी कोरोना पॉजिटिव आने के बावजूद अपनी रिपोर्ट छिपा रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग की एक टीम इस बात की जांच कर रही है कि क्या बिल्डिंग में रहने वाले डॉक्टरों से  खुद ही कोरोना का टेस्ट किया है, साथ ही वह उनके अपार्टमेंट में रहते हैं या नहीं। हमारी जांच से पता चलेगा कि स्थानीय लोगों को उनकी कोरोना से पॉजिटिव रिपोर्ट मिली है और अगर किसी डॉक्टर ने उनके अपार्टमेंट में ऐसा कृत्य किया है, तो उनके खिलाफ दंडात्मक एवं शिक्षात्मक कार्रवाही  किया जाएगा।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें