सूरत : बच्चा गढ्ढे में गिर गया ठगे और मादा तेंदुआ आसपास चक्कर लगा रही थी, जानें फिर कैसे हुआ रेस्क्यू ऑपरेशन

प्रतिकात्मक तस्वीर (Photo Credit : Pixabay.com))

सोनगढ़ के देवलिमाड़ी जंगल को सटकर आए एक खेत के पास गड्ढे में गिरे मादा तेंदुए के बच्चे को निकालने के लिए मादा तेंदुए ने खूब प्रयास किया, लेकिन वह असफल रही। वन विभाग के अधिकारियों ने कड़ी मेहनत के बाद बच्चे को गड्ढे से निकाला और मां बेटे का मिलन करवाया था। सोनगढ़ के देवलीमाडी में धार्मिक स्थान को सट कर आए एक खेत में 5 तारीख को गड्ढे में से एक तेंदुए के बच्चे को वन विभाग  ने निकाला था। 
बच्चे को निकालकर अधिकारियों ने सब्जी की टोकरी में रख दिया
इसके पहले कई दिनों से इस क्षेत्र में रहने वाली माता तेंदुए के साथ दो बच्चों को घूमते लोगों ने देखा था। इन्हीं में से यह एक बच्चा होने की आशंका गांव के लोगों ने व्यक्त की। लोगों का कहना था कि संभवत उन्हें दोनों में से एक बच्चा गड्ढे में गिर गया था। जिसके चलते मादा तेंदुआ के आसपास ही घूमती थी। इस बच्चे को गड्ढे से बाहर निकालना बहुत ही रिस्क भरा था। दूसरी और मादा तेंदुए भी वहीं पर होने के कारण यह खतरा और बढ़ गया था। ऐसे में सादड़वेल रेंज के वन अधिकारी चिराग आगरा और उनकी टीम ने रिस्क ले कर बच्चे को बाहर निकाला। इसके बाद बच्चे की मेडिकल जांच कराई गई तब बच्चा स्वास्थ्य निकला। इसके बाद वन अधिकारियों ने उसकी माता को ढूंढने का प्रयास किया। वन अधिकारियों ने गड्ढे के पास तक सब्जी की एक टोकरी में बच्चे को रख दिया और वहीं पर नाइट विजन वाला कैमरा लगा दिया।शनिवार की देर रात मादा तेंदुआ आई और बच्चे को बकेट में से निकाल कर अपने साथ ले गई।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें