सूरत : कोरोना से मरने वालों के परिवारों को आर्थिक सहायता के लिए सूरत को मिला 12 करोड़ का ग्रांट

प्रतिकात्मक तस्वीर (Photo Credit : divyabhaskar.co.in)

सरकारी रजिस्टर में सूरत शहर- जिले में कोरोना से 2116 लोगों की मौत

कोरोना से मरने वाले परिवार को 50 हजार रूपये आर्थिक सहायता चुकाने के फॉर्म भरना और स्वीकारना शुरू हो गया है। मृतकों के परिवार को फॉर्म भरने के 30 दिन में सहायता दिलाने की प्रशासन ने कवायद शुरू की है। ऐस में सूरत जिले में कोविड मृतकों के परिवार को सहायता देने के लिए राज्य सरकार ने 12 करोड़ रूपयों की ग्रांट आवंटित की है। 10 करोड़ रूपये शहर के लिए और 2 करोड़ रूपये ग्रामीण विस्तार के लिए आवंटित किए गए है। सरकारी रजिस्टर में मृतकों का आंकड़ा में से सूरत शहर में 1629 और ग्रामीण में 487 नागरिकों की कोरोना से मौत हुई है।
कोरोना की पहली और दूसरी लहर में मरने वालों के परिवार को 50 हजार रूपयों की आर्थिक सहायता चुकाने का कोर्ट ने आदेश दिया था। कोर्ट ने सख्ती दिखाने पर राज्य सरकार ने आर्थिक सहायता चुकाने के लिए तेजी गति से कार्यवाही शुरू की है। हो सके उतना जल्दी आर्थिक सहायता चुकाने के हर जिले के कलक्टर को आदेश दिया गया है। वहीं कोर्ट के आदेश का पालन करने में कोई गलती नहीं हो इसके लिए राज्य सरकार ने राज्य के सभी जिलों को एडवान्स में ही कोविड मृतकों के परिवार को सहायता चुकाने के लिए ग्रांट डिजास्टर शाखा को आवंटित की है। सूरत जिले को 12 करोड़ रूपयों की ग्रांट आवंटित की गई है। इसमें 10 करोड़ रूपये सूरत शहर और 2 करोड़ रूपये ग्रामीण विस्तार के लिए आवंटित किए है।
चेक दिया जाएगा या खाते में जमा होंगे इसको लेकर असमंजस की स्थिति
कोरोना से मौत हुई हो ऐसे मृतकों के परिवारों ने फॉर्म भरना शुरू कर दिया है। मूतक के परिवार में एक से ज्यादा वारसदार हो तो ऐसे मामलों में एफिडेविट पेश करना होगा। इसके बाद एफिडेविट के मुताबिक आवेदनकर्ता को 50 हजार रूपये की सहायता दी जाएगी। आवेदनकर्ता से बैंक की जानकारी भी मांगी जा रही है। लेकिन आवेदनकर्ता को सहायता का चेक दिया जाएगा या आरटीजीएस या अन्य किसी माध्यम से सीधे बैंक खाते में ट्रान्सफर की जाएगी इसको लेकर असमंजस की स्थिति है।
सूरत जिले में अभी तक 3500 फॉर्म का वितरण
कोरोना से मरने वाले सूरत जिले में सरकारी आंकड़ों के मुताबिक 2116 लोग है। लेकिन कोविड फॉर्म वितरण शुरू होने के बाद कलक्टर के डिजास्टर शाखा और पालिका जोन कार्यालय से शुरूआत के दिनों में करीबन 3500 फॉर्म का वितरण किया गया। अब तो ग्राम पंचायत की ऑफिस के साथ ऑनलाइन भी फॉर्म मिलने से कितने लोगों ने फॉर्म लिए यह बताना मुश्किल होगा। लेकिन शुरूआती आंकड़ों के मुताबिक 3500 लोगों ने फॉर्म लिए है। कोरोना से मरने वालों का सरकारी आंकड़ा और वितरित हुए फॉर्म में बड़ा अंतर दिखायी दे रहा है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें