सूरत : रुक-रुककर हो रही बारिश से शहरवासियों को गर्मी से मिली राहत

प्रतिकात्मक तस्वीर

वापी में दो घंटे में दो इंच बारिश, राज्य के अधिकांश हिस्सों में बरसाती माहौल बन गया है

  वर्तमान में राज्य के अधिकांश हिस्सों में बरसाती माहौल बन गया है। गुजरात के मौसम पूर्वानुमान के अनुसार दक्षिण गुजरात में मेघराजा मेहरबान है। बारिश के आंकड़ों के मुताबिक, वापी  में दो घंटे में दो इंच बारिश हुई। वहीं सूरत में भी सुबह से छिटपुट बारिश से लोगों को राहत मिली है। जारी बारिश के आंकड़ों के मुताबिक दो घंटे में वापी में दो इंच, वलसाड के पारडी में एक इंच और कपराडा में 23 मिमी बारिश हुई। जबकि सूरत में दो इंच बारिश रिकॉर्ड की गई है। 
सूरत शहर में देर रात से ही बारिश का मौसम बना हुआ है। रुक-रुककर हो रही बारिश से शहर की सड़कों पर पानी भर गया है। बारिश के चलते सूरत शहर में माहौल सर्द हो गया है। पिछले कई दिनों से चिलचिलाती गर्मी और उमस से जूझ रहे सूरतवासियों को बारिश से राहत मिली है। बारिश के कारण सुबह जल्दी काम पर जाने वाले लोगों के साथ ही स्कूल जाने वाले बच्चों को भी कुछ दिक्कतों का सामना करना पड़ा। हालांकि सूरत शहर में लगातार बरसात होने से माहौल हिल स्टेशन में तब्दील हो गया है। आसमान में दिन के समय भी काले बादलों के साथ रात की तरह अंधेरा रहता है। सूरत शहर में दो इंच बारिश रिकॉर्ड की गई है। बारिश से शहर के कई निचले इलाकों में पानी भर गया है। इसके चलते मच्छरों का प्रकोप बढ़ रहा है।
 शहर के साउथ जोन में सबसे अधिक 36 मिमी बारिश दर्ज की गई। बारिश के आंकड़ों की बात करें तो सेन्ट्रल जोन में 14 मिमी, वेस्ट जोन में 3 मिमी, नार्थ जोन में  11 मिमी, ईष्ट जोन (ए) में 34 मिमी, ईष्ट जोन  (बी)  में 18 मिमी, साउथ वेस्ट जोन में 15 मिमी बारिश दर्ज किया गया है। सूरत शहर में मानसून शुरू होते ही तापी नदी में नया पानी आ गया है। साथ ही कोजवे की सतह भी बढ़ गई है।  सोमवार को 5.33 मीटर पर कॉजवे की सतह रिकॉर्ड की गई। कॉजवे पर जल स्तर वर्तमान में 5.49 मीटर पर बह रहा है। वियर कम कॉजवे के अपस्ट्रीम और तापी नदी के अपस्ट्रीम में बारिश ने कॉजवे की सतह को बढ़ा दिया है। पिछले एक दिन में कॉजवे की सतह 5 मीटर से बढ़कर 5.49 मीटर हो गई है। गौरतलब है कि कॉजवे की खतरनाक सतह 6 मीटर है। यदि पूर्वानुमान के अनुसार बारिश जारी रहती है, तो ओवरफ्लो होने पर कोजवे को रोकने के लिए मजबूर होने पड़ेगा। बरसात के मौसम के बीच कोजवे पर अद्भुत नजारा देखने को मिल रहा है। गर्मी की तपिश से सूख चुकी तापी नदी भी ताजे पानी के साथ बहने लगी है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें