सूरत : भारी संख्या में इलाज के लिए आ रहे है अन्य राज्य के लोग

महाराष्ट्र से बड़ी संख्या में मरीज सूरत में उपचार के लिए आ रहे, राजस्थान और मध्यप्रदेश से आ रहे है मरीज

कोरोना की दूसरी लहर ने देश के कई शहरों में हाहाकार मचा रखा है। ऐसे में मरीज परेशान हैं कि वह कहां पर अपना उपचार करवाएं। कई शहरों में मेडिकल सुविधा व्यवस्थित नहीं होने के कारण देश के कई कोने से कोरोना के मरीज सूरत में आ रहे हैं, जिसके चलते सूरत में भी व्यवस्था चरमरा गई है।
सूरत के सिविल हॉस्पिटल और मनपा संचालित हॉस्पिटल में प्रतिदिन 50 से अधिक मरीज सूरत शहर से बाहर के आ रहे हैं। इतना ही नहीं, सूरत के पड़ोसी राज्य यानी कि महाराष्ट्र से भी बड़ी संख्या में मरीज सूरत में उपचार के लिए आ रहे हैं। मनपा कमिश्नर बंछानिधि पाणी ने बताया कि राजस्थान,मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र सहित कई राज्यों से मरीज सूरत के अस्पतालों में दाखिल हुए हैं। इसके अलावा सौराष्ट्र के मरीज भी सूरत आ रहे हैं। मनपा कमिश्नर बंछानिधि पाणी ने बताया कि मनपा संचालित हॉस्पिटल में जल्दी ही वेंटिलेटरर्स की संख्या बढ़ाई जाएगी। फिलहाल यहां पर 240 वेंटीलेटर के बेड हैं। जिसकी संख्या बढ़ाकर 300 की जाएगी। 

सिविल हॉस्पिटल में भी फिलहाल 425 मरीज वेंटिलेटर पर उपचाराधीन है। इसे बढ़ाकर 500 किया जाएगा। फिलहाल पालिका की ओर से निजी हॉस्पिटल में डेढ़ सौ से अधिक मरीजों को भेजा गया है। सूरत में पालिका की ओर से शहर में लोगों को बड़ी संख्या में वेक्सिन दिया जा रहा है। मनपा की ओर से अलग-अलग टीम बनाकर बड़ी संख्या में लोगों को कोरोना का वैक्सिन मिले इसलिए प्रयास किए जा रहे हैं। जिससे की कोरोना के संक्रमण को रोकने में कुछ सहायता प्राप्त हो। मनपा की अलग-अलग टीमें शहर के अलग-अलग स्थानों में कोरोना वैक्सिन दे रही है। बता दे कि सूरत में अब तक 7 लाख से भी अधिक लोगों ने कोरोना का प्रथम डोज ले लिया है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें