सूरत : रेमडीसीवीर इंजेक्शन की सप्लाई आने पर मरीजों के परिजनों की मिली आंशिक राहत

प्रतिकात्मक तस्वीर (Photo : IANS)

मात्र अस्पताल के कर्मचारियों को ही मिलेगे इंजेक्शन, कालाबाजारी रोकने के लिए हो रहे है सभी प्रयास

राज्य में कोरोना के केस जबसे बढ्ने शुरू हुये है तब से रेमेडीसिविर इंजेक्शनों की मांग फिर से बढ़ गई है। ऐसे में सूरत में बुधवार को इंजेक्शन खतम हो जाने के कारण कई लोगों को तकलीफ़ों का सामना करना पड़ा था। हालांकि दोपहर के बाद 5000 इंजेक्शन आने के चलते मरीजों और उनके परिजनों को आंशिक राहत मिली थी। इसमें से 2000 इंजेक्शन सिविल स्थित छाँयडो संस्था को मिले थे। 
सूरत में बुधवार को दोपहर तक 5000 इंजेक्शन पहुंचा दिये गए थे। जिसके बाद तंत्र ने निजी अस्पतालों को इंजेक्शन देना शुरू कर दिया था। नई वितरण व्यवस्था के बाद 75 निजी अस्पतालों ने कलेक्टर के पास इंजेक्शन के लिए अपील की थी। जिसके अनुसार सभी को जरूरत के हिसाब से स्टॉक दे दिया गया था। शाम तक सिविल अस्पताल में भी 1000 इंजेक्शन का स्टॉक बचा था। उल्लेखनीय है की सूरत में बुधवार दोपहर तक इंजेक्शन नहीं आने पर लोगों ने भारी कीमतों पर इंजेक्शन खरीदे थे। हालांकि दोपहर के बाद इंजेक्शन आ जाने के कारण लोगों को राहत मिली थी। 
इसके पहले इंजेक्शन के वितरण व्यवस्था में बदलाव कर दिया गया था। जिसके अनुसार अस्पतालों को covid.inj2021@gmail।com पर मरीज के नाम और उसके साथ कितने इंजेक्शन की जरूरत है, वह बताना पड़ेगा। जिसके बाद अस्पताल के कर्मचारी को ही इंजेक्शन लेने जाना पड़ेगा। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें