सूरत : विधानसभा के लिए पहले दिन 1,808 पुलिस अधिकारियों-कर्मचारियों ने पोस्टल बैलेट से मतदान किया

सूरत में बैलेट वोटिंग करते पुलिसकर्मी

चुनाव आयोग द्वारा विशेष मतदान सुविधा के तहत 23 व 24 नवंबर को पुलिसकर्मियों के लिए मतदान शिविर का आयोजन

सूरत जिला निर्वाचन प्रणाली द्वारा की गई व्यवस्था के अनुसार गुजरात विधानसभा चुनाव-2022 में चुनाव ड्यूटी में लगे पुलिस अधिकारी अपने मतदान के अधिकार का प्रयोग कर सकते हैं। विधानसभा चुनाव में लगे कर्मचारियों के लिए चुनाव आयोग द्वारा बनाई गई विशेष मतदान सुविधा के तहत 23 व 24 नवंबर को पुलिसकर्मियों के लिए मतदान शिविर की व्यवस्था की गई है। 

1,808 वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों-कर्मचारियों ने पहले दिन बैलेट वोटिंग किया


बुधवार 23 नवंबर को इसको लेकर सूरत शहर के अठवालाइन पुलिस प्रशिक्षण भवन में सुबह से ही डाक मतदान के लिए पुलिसकर्मी लाइन में लगे रहे। गुजरात में विधानसभा चुनाव के लिए वोटिंग 1 दिसंबर को होनी है। मतपत्र के नोडल अधिकारी जी एम बोरडे ने कहा कि सूरत जिले की 14 विधानसभा सीटों के कुल 1,808 वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों-कर्मचारियों ने पहले दिन बैलेट पेपर के माध्यम से अपने मतदान के अधिकार का प्रयोग किया है और 25 तारीख को भी मतदान होगा। 
सूरत में पुलिस प्रशिक्षण भवन में पोस्टल वोटिंग के लिए लगी लाईन
पुलिस उच्चाधिकारियों ने भी किया बैलेट वोटिंग
मतदान के अवसर पर पुलिस शाखा के उच्चाधिकारियों ने भी डाक मतपत्रों के माध्यम से अपने मताधिकार का प्रयोग किया। साथ ही सूरत संभाग के पुलिस थाने के पुलिस शाखा, पुलिस मुख्यालय के केवल पुलिस अधिकारी/कर्मचारी कर्मचारियों ने भी मताधिकार का प्रयोग किया।

डाक मतपत्र से मतदान कैसे करें?


जिन विधानसभा क्षेत्रों में वे मतदाता के रूप में पंजीकृत हैं, उनके मतपत्र चुनाव ड्यूटी पर तैनात कर्मचारियों को चार दिन पहले दे दिए जाते हैं। कर्मचारी अपनी पसंद के उम्मीदवार को वोट देने के बाद गारंटी फॉर्म यानी फॉर्म नं. वे इस पोस्टल बैलेट को उस निर्वाचन क्षेत्र के रिटर्निंग अधिकारियों को देते हैं। 8 दिसंबर को जब मतगणना होगी तो रिटर्निंग ऑफिसर सबसे पहले इन कर्मचारियों के मतों की गिनती कर मुख्य मतों में जोड़ेंगे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें