सूरत : इस साल शहर में पहली बार वराछा क्षेत्र से भी निकलेगी रथयात्रा

आकर्षण का केंद्र रहेगी झांकीया बारिश में कोई बाधा न हो इसके लिए तैयारी की गई थी

रथयात्रा में भगवान श्रीकृष्ण द्वारा गोवर्धन पर्वत को उठाने , राम-सीता के अवसरका विवरण भी झांकीयों के रुप में रखा गया है

वराछा में पहली बार नियोजित भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा में शामिल होंगे विदेशी श्रद्धालु
आठ साल पहले सूरत के वराछा क्षेत्र में बने मातावाड़ी स्थित इस्कॉन मंदिर द्वारा इस वर्ष पहली बार भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा का आयोजन हो रहा है। इस्कॉन मंदिर द्वारा वराछा के मानगढ़ चौक से मोटा वराछा तक रथ यात्रा का आयोजन किया गया है। जिसमें 10 से 15 विदेशी श्रद्धालु भी मौजूद रहेंगे। यात्रा पर बारिश का असर न हो इसके लिए भी विशेष तैयारी की गई है।
वराछा इस्कॉन मंदिर से शुरू होने वाली रथयात्रा में 10 से 15 खूबसूरत झलकियां पेश की जाएंगी। रथयात्रा में भगवान कृष्ण को विभिन्न प्रकार की सब्जियों को धारण कर ट्रैक्टर पर रखकर आकर्षण का केंद्र बनाने की व्यवस्था की गई है। इसके साथ बैलगाड़ी, छोटी गाड़ी, रथयात्रा में घोड़ा और हरिनाम संकीर्तन की टीम भी शामिल होगी।
पूरी रथयात्रा के दौरान सभी भक्तों को प्रसाद दिया जाएगा। इस संबंध में मंदिर से जुड़े प्रभु स्वामी ने कहा कि रथयात्रा में दर्शन का लाभ लेने आने वाले सभी भक्तों को मग, चना, खीर, ढोकला, फल, शर्बत, पानी, खीचड़ी  प्रसाद के रूप में दि जाएगी। उन्होंने आगे कहा कि चूंकि वराछा क्षेत्र में पहली बार रथ यात्रा होनी है, इसलिए सभी भक्तों में काफी उत्साह है। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें