सूरत : सचीन जीआईडीसी में रास्ते के निर्माण कार्य के दौरान ट्राफिक समस्या को दूर करने का प्रयास

स्पीड ब्रेकर हटाते समय उपस्थित उद्योगपति, पुलिस और स्थानिय ग्रामिण

सचीन जीआईडीसी में रास्ते का काम चल रहा है तब तक ट्राफिक जाम की समस्या से निपटने के लिए नेशनल हाईवे पर गभेणी चौराहे पर लगाए गए स्पीड ब्रेकर को हटाया गया

पुलिस और उद्योगपतियों ने बैठक कर हाईवे पर लगाए गए स्पीड ब्रेकर एक महिने के लिए हटाए
सूरत सचीन जीआईडीसी का मेन एंट्री गेट नंबर 1 मुख्य रोड नंबर 6 का रोड तोड़कर बरसाती पानी के निस्तारण के लिए पुलिया बाक्स का निर्माण कार्य अधिसूचित किया गया है।  जिस कारण से गेट नं. 1 का चौराहा, गेट नं. 2 का चौराहा और गभेणी चौराहा के पास योतायात समस्या होती है। सुबह-शाम के पीक आवर्स में दो से तीन किलोमीटर लंबी वाहनों की लाईन लग जाती है। जिससे सचीन जीआईडीसी के उद्योगपतियों और आम जनता को काफी परेशानी हो रही है हर रोज दो से तीन घंटे तक ट्रैफिक में फंसे रहते है। वहां से रोजाना आने-जाने वाले सचिन जीआईडीसी के उद्योगपतियों और नागरिकों की शिकायत थी कि सभी वाहनों की भीड चारों तरफ से गभेनी चौकड़ी की ओर बढ़ रही है, तो वहां लगे 8 स्पीड ब्रेकर के कारण वाहन जल्दी से बाहर नहीं निकल पाएंगे और यू  टर्न के लिए भी वाहनों को रोकोना पडेगा। 
तो सचीन जीआईडीसी के उद्योगपतियों ने मांग की है कि जब तक गेट नंबर 1 पर कल्वर्ट बॉक्स का काम चल रहा है तब तक एक महीने के लिए अस्थायी आधार पर गभेणी चौराहे के सभी 8 स्पीड ब्रेकर को  हटाया जाना चाहिए। जिसके संबंध में डीसीपी प्रशांत सुंबे ने कल सूरत मुख्य पुलिस थाने में एसीपी मेवाड़ा और राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के अधिकारियों के साथ बैठक बुलाई थी। इस बैठक में सचीन इंडस्ट्रीयल कॉ.ऑ.सोसायटी के मौजूदा सत्ताधारी दल और पूर्व सत्ताधारी दल को भी बैठक मे बुलाया गया था। बैठक के दौरान निर्णय लिया गया कि आसपास के ग्रामीणों को विश्वास में लेकर मंगलवार को ग्यारह बजे स्पीड ब्रेकर हटाने का काम किया जायेगा। मंगलवार सुबह 11 बजे सचिन जीआईडीसी थाने में एसीपी मेवाड़ा के अध्यक्षता में  पुलिस निरीक्षक जडेजा, सचीन जीआईडीसी के उद्योगपतियों, स्थानीय नगरसेवकों और गभेनी, उन के ग्रामीणों की उपस्थिति में स्पीड ब्रेकर हटाने पर चर्चा की गयी। उसके बाद गभेणी चौकड़ी के 8 स्पीड ब्रेकर को हटाने के संबंध में निर्णय लिया गया। एक माह के लिए अस्थायी आधार पर 8 स्पीड ब्रेकर हटाना। सुबह 10 बजे से रात 11 बजे तक यातायात को नियंत्रित करना। घातक दुर्घटनाओं को रोकने के लिए पांच टीआरबी जवान और रात में दो टीआरबी तैनात किए जाएंगे। घातक दुर्घटनाओं को रोकने के लिए रात के समय बैरक लगायेगे  जिससे वाहनों की गति धीमी हो जाती है। ओवर ब्रिज से पूरी गति से आने वाले वाहनो की गति धीमी करने के लिए ओवर ब्रिज पर साइन बोर्ड और पीले रंग की स्पार्कल लाइट लगाना।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें