सूरत : आपदा प्रबंधन और सूरत अग्निशमन विभाग द्वारा मार्शलों और फायरमैन के लिए विशेष बाढ़ प्रशिक्षण

तापी नदी में जवानों को ट्रेनिंग दी जा रही है

ट्रेनिंग के दौरान बचाव ए‍वं राहत कार्य के दौरान किस प्रकार से रास्ता निकालना उसका भी प्रशक्षिण दिया जाता है

मानसून के दौरान सभी प्रकार की परिस्थितियों को पूरा करने के लिए प्रशिक्षण दिया जा रहा है
मानसून की शुरुआत से पहले आपदा प्रबंधन और सूरत दमकल विभाग की ओर से विशेष प्रशिक्षण कार्यक्रम शुरू किया गया है। सूरत दमकल विभाग के जवानों को सभी स्थितियों से निपटने के लिए तैयार किया जा रहा है। 4 अप्रैल से 5 अलग-अलग चरणों में प्रशिक्षण कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं। जिसमें जवानों और दमकलकर्मियों को हर तरह की ट्रेनिंग दी जा रही है। तापी रिवर वियर कम कॉजवे पर प्रशिक्षण चल रहा है।
मानसून के दौरान सूरत शहर में बाढ़ जैसे हालात बन जाते हैं। उपरवास में भारी बारिश और उकाई बांध से पानी छोड़े जाने के कारण। जब शहर के कई इलाकों में पानी घुस जाता है तो लोग सुरक्षित जगहों पर जाने को मजबूर हो जाते हैं। दमकल विभाग खाड़ी में आई बाढ़ के दौरान भी ऐसे कई इलाकों से लोगों को निकालने का काम करते है। ऐसे में आग बुझाने के बचाव अभियान के साथ-साथ तमाम मशीनों का सही तरीके से इस्तेमाल करने का प्रशिक्षण दिया जा रहा है।
संभागीय दमकल अधिकारी ईश्वर पटेल ने बताया कि मानसून से पहले आपदा प्रबंधन द्वारा तय कार्यक्रम के अनुसार प्रशिक्षण दिया जा रहा है। जिसमें मानसून के दौरान ऐसे हालात में बचाव एवं राहत के लिए रास्ता निकलाने का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। साथ ही नए उपकरणों के उपयोग, नावों के रखरखाव और संचालन, स्कूबा, ऑपरेशनल ड्रिल आदि का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। बचाव के समय मार्शल और दमकल विभाग के कर्मियों को कैसे काम करना है, इसके लिए सुसज्जित किया जा रहा है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें