सूरत : सीमा विस्तार के बाद अमरोली, छापराभाठा, कोसाड क्षेत्र में लोक समस्या के समाधान की कांग्रेस की मांग

सूरत महानगरपालिका मुख्यालय

नए क्षेत्रों में स्वास्थ्य सेवाओं, शिक्षा और टूटी सड़कों सहित सुविधाओं के निर्माण के लिए दर्शन नायक ने मनपा आयुक्त को ज्ञापन दिया

सूरत गुजरात विधानसभा चुनाव से पहले कई आंदोलनों के साथ-साथ नए इलाके में प्राथमिक सुविधाओं की मांग उठाना शुरू हो गई है। कांग्रेस नेता दर्शन नायक ने सीमा विस्तार के बाद नए क्षेत्र में समस्या के समाधान की मांग की है। इसके अलावा नगर आयुक्त को नए क्षेत्रों में स्वास्थ्य सेवाएं, शिक्षा और टूटी सड़कों समेत सुविधाएं सृजित करने का प्रस्ताव दिया गया है।
विधानसभा चुनाव की उल्टी गिनती के साथ ही विभिन्न श्रमिक संघ और राजनीतिक दल सरकार को हटाने के लिए कई मांग कर रहे हैं। इसके साथ ही अब सूरत कांग्रेस ने नगर पालिका के विस्तार के बाद शामिल किए गए नए क्षेत्र में विभिन्न सुविधाओं की मांग की है।

नगर निगम में शामिल क्षेत्र में सु‌विधाओं की मांग की गयी


गुजरात प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महासचिव दर्शन नायक ने नए क्षेत्र में सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए नगर आयुक्त को एक याचिका सौंपी है। जिसमें कहा गया है कि छपराभाठा, कोसाड, वरियाव, अमरोली आदि क्षेत्रों में नगर पालिका की प्रशासनिक व्यवस्था खराब व्यवहार कर रही है। चार लाख से अधिक आबादी वाले इस क्षेत्र में स्वास्थ्य एवं प्राथमिक सुविधाओं के संचालन में सूरत नगर निगम व्यवस्था संतोषजनक और तेजी से काम नहीं कर रही है। खाड़ी के पानी का उचित निस्तारण नहीं होने के कारण बड़ी संख्या में मच्छरों के प्रजनन के कारण यहा घर-घर लोग बीमार हो रहे है। जिससे कोसाड से लेकर छपराभाठा तक के क्षेत्र में गंदगी के कारण मच्छरों का प्रकोप बढ़ गया है। खाडी कि नियमित सफाई करके खुली जगह पर बरसाती पानी का निकाल करना चाहिए। इस क्षेत्र में सभी स्वास्थ्य सुविधाओं से लैस एक सरकारी अस्पताल बनाने की विशेष आवश्यकता है।

अमरोली, छापराभाठा, कोसाड में जनसुविधा केन्द्र की मांग


छपराभाठा से कोसाड तक के क्षेत्रों में कक्षा एक से आठ तक के सरकारी स्कूल हैं, लेकिन इस क्षेत्र के छात्रों को आगे की पढ़ाई के लिए निजी स्कूलों पर निर्भर रहना पड़ता है। इसलिए हम मांग करते हैं कि इस क्षेत्र में सरकारी अंग्रेजी और गुजराती माध्यम सुमन हाई स्कूल बनाया जाए। महानगर पालिका बनने के बाद से इस क्षेत्र में संपत्ति कर को लेकर व्यापक शिकायतें मिलने लगी हैं। साल 2021-22 में संपत्ति का बिल 800 से 900 रुपये हुआ करता था, इस साल संपत्ति कर को बढ़ाकर 1700 से 2200 रुपये कर दिया गया है। जो अन्याय है। इस तरह के अन्याय को दूर कर नए क्षेत्र में सुविधाएं सृजित करने की मांग की गई है। सूरत महानगरपालिका में समाविष्ट कोसाड क्षेत्र में अभी तक नगर निगम द्वार जन सुविधा केन्द्र शुरू नही किया है जिसके कारण लोगों तथा छात्रों दुर दुर तक जन सुविधा केन्द्रो पर जाना पडता है। इस क्षेत्र के रास्तों पर गड्डे पड गए है जिससे वाहन चालकों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड रहा है और ट्राफिक जाम की समस्या बढ़ रही है। दर्शन नायक ने मनपा आयुक्त को ज्ञापन देकर जनहित में जन सुविधालक्षी कार्यो का तत्काल अमल करने की मांग की गयी है। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें