सूरतः कोरोना काल में कर्मभूमि से लेकर जन्म भूमि तक सेवा कार्य में जुटे कारोबारी

उद्योगपति की टीम कोरोना संक्रमित सौराष्ट्र पहुंचा

सूरत के उद्योगपति-युवकों की टीम कोरोना संक्रमित सौराष्ट्र पहुंचकर सेवा में जुड़ा

सौराष्ट्र में कोरोना बढ़ रहा है। कोरोना के लिए सकारात्मक परीक्षण के बाद रोगियों को उचित उपचार प्राप्त नहीं होने से  गांवों से सूरत आ रहे हैं। अमरेली, जामनगर, पोरबंदर, द्वारका  सहित लगभग सभी जिलों में स्थिति बिगड़ रही है। वतन में ही लोगों को योग्य उपचार मिले इसके लिए सूरत से डॉक्टर सौराष्ट्र गये हैं ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि लोगों को उनकी मातृभूमि में ही उचित इलाज मिल सके। मातृभूमि का कर्ज चुकाने के लिए सूरत से डॉक्टरों की एक टीम रविवार को चार्टर प्लेन के जरिए सौराष्ट्र पहुंची। सूरत के 14 एमडी डॉक्टर रविवार से सौराष्ट्र में कोरोनोवायरस से पीड़ित लोगों का इलाज शुरु किया। सूरत के व्यापारी और कार्यकर्ता सेवा संस्थान से जुड़ गए हैं और आइसोलेशन सेन्टर, डॉक्टर्स और पैरा मेडिकल टीम और युवा श्रमिकों के साथ सौराष्ट्र में  कार्यवाही शुरू किया है। इससे पहले शनिवार को सूरत के सेवादार लोग सरथाणा जकातकनाका से सड़क मार्ग से सौराष्ट्र  के लिए कार से रवाना हुए थे। इस कार्य में, राष्ट्र ध्वज के साथ, राष्ट्रीय भावना के साथ, कुंवारी कन्याओं ने तिलक लगाकर हिंदू संस्कृति के अनुसार  मुंह मीठाकर  मातृभूमि के लिए वाहनों को रवाना कराया था। 
सूरत के व्यापारी, कोरोना वारियर्स, धर्मार्थ संगठनों के सदस्य और डॉक्टर विभिन्न जिलों और तहसीलों में लोगों से मिल रहे हैं। चार्टर प्लेन के जरिए डॉक्टरों की  टीम सौराष्ट्र की ओर रवाना की गई है। ये डॉक्टर गाँव में तब तक काम करेंगे जब तक संक्रमण कम नहीं हो जाता। सौराष्ट्र में उचित उपचार नहीं मिलने से कोरोना से पीड़ित मरीज इलाज के लिए सूरत आ रहे हैं। जिसको लेकर सूरत में रहने वाले मूल सौराष्ट्र युवकों एवं उद्योगपतियों में चिंता बढ़ गई। 
जिसे ध्यान में रखते हुए, सूरत के सेवा संस्थान द्वारा वतन जाकर मरीजों को वहीं ठीक करने के लिए एक अभियान शुरू किया गया है। जिसके अंतर्गत मेडिकल स्टाफ तथा युवकों की टीम द्वारा सौराष्ट्र की ओर जाना शुरु किया गया है। सूरत हवाई अड्डे से एक विशेष चार्टर विमान में 9 डॉक्टरों और 9 अन्य डॉक्टरों की एक टीम सौराष्ट्र पहुंची है। कुल 18 डॉक्टर सौराष्ट्र पहुंचे और कोरोना संक्रमित रोगियों के उपचार में शामिल हुए।
सामाजिक संगठन के सेवा-भावी  लोगों द्वारा सौराष्ट्र में एक सर्वेक्षण करने के बाद लोगों में रहे डर, गलतफहमी  एवं स्वास्थ्य लक्षीय सेवा के अभाव बढ़ रहे कोरोना को ‌नियंत्रण में लेने  विशेष योजना के साथ 7-दिवसीय 'माय होमलैंड एंड लेट्स गो होम' अभियान शुरू किया है। इस अभियान में 7 दिनों में 500 कारों के साथ एंबुलेंस, डॉक्टरों, आवश्यक दवाओं को लेकर पहुंचेगा। साथ ही ग्रामीणों के डर को दूर करने का प्रयास किया जाएगा। इस कार्य की शुभ शुरुआत शनिवार शाम 6 बजे सरथाण जकातनाका  सेवा संस्था के अध्यक्ष महेश सवाणी  के साथ-साथ कानजी भालाणा,  मारुति वीर जवान टीम के करुणेश, विपुल बुहा, विपुल साचपरा, वल्लभ चोथाणी, विपुल तलाविया, डॉ. गौतम शिहोरा, पियुशाभाई वेकरिया सहित अनेक सेवाभावी लोग उपस्थित थे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें